'बॉम्बे' शब्द से कैसी परेशानी: मिहिर

मिहिर जोशी इमेज कॉपीरइट MIHIR JOSHI

मुंबई के गायक मिहिर जोशी हैरान हैं कि सेंसर बोर्ड ने उनके गाने से बॉम्बे शब्द हटाने को क्यों कहा.

मिहिर ने भारत में महिला सुरक्षा के ख़राब हालातों पर एक गाना लिखा 'सॉरी', जिसमें दिल्ली और बॉम्बे शब्द का इस्तेमाल है.

सेंसर बोर्ड ने गाने से बॉम्बे शब्द हटाने को कहा. मिहिर को इस बात से हैरानी है.

बीबीसी से बात करते हुए मिहिर कहते हैं, "सेंसर बोर्ड ने मुझे कारण ही नहीं बताया. बॉम्बे शब्द हटाने को कह दिया. ये शब्द तो हमारी ज़िंदगी का हिस्सा बन चुका है. इसमें समस्या क्या है."

ट्विटर पर समर्थन

इमेज कॉपीरइट MIHIR JOSHI

मिहिर ने बताया कि जब सेंसर बोर्ड की अध्यक्ष लीला सैमसन थीं तब बोर्ड ने उनसे ये शब्द हटाने को कहा. अब पहलाज निहलानी की अध्यक्षता वाले नए बोर्ड ने भी कहा कि वो पुराने बोर्ड के इस फ़ैसले से सहमत हैं.

तो फिर ये हंगामा अब क्यों?

मिहिर ने बताया कि उन्होंने ट्विटर पर अपने चाहने वालों के सामने सवाल रखा कि बॉम्बे में क्या समस्या है. तब ट्विटर पर ट्रेंड होने की वजह से मीडिया को इस मामले में दिलचस्पी पैदा हुई.

सवाल

इमेज कॉपीरइट MIHIR JOSHI

मिहिर सवाल करते हैं, "जब बॉम्बे स्कॉटिश स्कूल हो सकता है, बॉम्बे हाई कोर्ट का नाम नहीं बदला, यहां तक कि बॉम्बे वैलवेट फ़िल्म आने वाली है जिसके बारे में बोर्ड ने कह दिया कि इस नाम में कोई दिक़्क़त नहीं क्योंकि ये पीरियड फ़िल्म है. तो फिर मेरे गाने वाले बॉम्बे से क्या परेशानी है."

मिहिर ने बताया कि उनके गाने का शीर्षक है सॉरी. गाना एक पिता और पुत्री के बीच संवाद है, जिसमें पिता अपनी बेटी से उसे असुरक्षित और औरतों के लिए बुरी दुनिया देने के लिए माफ़ी मांग रहा है.

मिहिर के मुताबिक़ दिल्ली और मुंबई जैसे शहरों में औरतों के प्रति बढ़ते अपराधों के मद्देनज़र उन्होंने ये गाना लिखा है.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार