फाल्के विजेता रामानायडू का निधन

इमेज कॉपीरइट pib

तेलुगु सिनेमा के दिग्गज निर्माता और दादा साहेब फाल्के अवॉर्ड विजेता डी रामानायडू का निधन हो गया है.

डी रामानायडू ने करीब 50 सालोंं के फ़िल्म करियर में तेलुगु, हिंदी, बांग्ला, उड़िया, असमिया, मलयालम, तमिल, कन्नड़, गुजराती, मराठी और भोजपुरी में फ़िल्में बनाई हैं. 2012 में उन्हें देश के तीसरे सर्वोच्च नागरिक सम्मान पदम भूषण से भी सम्मानित किया गया था.

उनके निर्माण में बनी कुछ प्रमुख हिंदी फ़िल्में हैं, तोहफ़ा, प्रेम क़ैदी, हम आपके दिल में रहते हैं, बंदिश, प्रेमनगर, दिलदार और बंदिश.

आंध्र प्रदेश के प्रकाशम ज़िले में 1936 में पैदा हुए डी रामानायडू ने फ़िल्म 'अनुरागम' से फ़िल्म निर्माण की दुनिया में क़दम रखा था.

प्रधानमंत्री मोदी ने भी डी रामानायडू के निधन पर दुख जताया है. ट्विटर पर उन्होंने लिखा कि वे फ़़िल्म उद्योग के बड़े नाम थे.

कईयों को बनाया सितारा

इमेज कॉपीरइट

डी रामानायडू ने 1964 में आंध्र प्रदेश के करिश्माई अभिनेता और राजनेता एनटी रामा राव को लेकर फ़िल्म 'रामनुडु-भिनाडु' बनाई थी, जो सुपर हिट हुई थी.

उनकी बांग्ला फ़िल्म 'असुख' को 1999 में राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया था.

वेंकटेश, हरीश, वंसरी, आर्यन राजेश, तब्बू और खुशबू जैसी कलाकारों का परिचय भी पहली बार रामानायडू ने ही दर्शकों से कराया था.

इसके अलावा उन्होंने शिवाजी गणेशन, कमल हासन, जयाप्रदा, चिरंजीवी, रजनीकांत, राजेश खन्ना, हेमा मालिनी, जीतेंद्र और श्रीदेवी के साथ भी काम किया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)