फिर ''साथ निभाना साथिया' के साथ टीआरपी

तेवर इमेज कॉपीरइट TEVAR

चैनलों की दौड़ में पहले पायदान पर रहा स्टार प्लस दूसरे पर कलर्स और तीसरे स्थान पर रहा ज़ी टीवी.

हालांकि कलर्स के तीसरे से दूसरे नंबर पर आने का बड़ा कारण पिछले रविवार को दिखाई गई फ़िल्म 'तेवर' को माना जा सकता है जिसकी वजह से चैनल को काफ़ी दर्शक मिले.

पहले पायदान पर अपना झंडा गाड़ा 'साथ निभाना साथिया' ने. कहानी में कभी अहम और गोपी के बीच नोक-झोक तो कभी माँ और बेटा यानी अहम और कोकिला बेन के बीच मतभेद चलता रहता है.

भोलापन और झगड़ा

इमेज कॉपीरइट Zee TV

दूसरे नंबर पर रहा 'कुमकुम भाग्य' शो के दर्शक प्रज्ञा के भोलेपन और अभि की झगड़ालू प्रकृति दोनों का मजा ले रहे हैं और खट्टी मीठी प्रेम कहानी हमेशा दर्शक को अच्छी लगती है.

तीन नंबर पर रहा 'दिया और बाती हम', इस शो ने अब एक और टाइम लीप लिया है और अब संध्या मां बन गई हैं. एक पुलिस अफ़सर की ज़िम्मेदारी और एक माँ की भूमिका एक साथ, एक बड़ी चुनौती बनकर संध्या के सामने है.

वैसे इस धारावाहिक ने पिछले हफ़्ते ही 1000 एपिसोड का सफ़र तय किया है.

'सुपरमॉम्स' सुपर

इमेज कॉपीरइट ZEE TV

सबसे पहले स्थान पर रहा 'डीआईडी सुपरमॉम्स' का ऑडिशन राउंड. इस शो के ऑडिशंस राउंड में मज़ेदार कंटेस्टेंट के बीच टक्कर लोगों को लुभा रही है.

गोविंदा की मौजूदगी से शो में एक अलग ही तरह का एंटेरटेनमेंट का तड़का लग गया है.

दूसरे नंबर पर रहा कपिल शर्मा का शो 'कॉमेडी नाइट्स विद कपिल.' इस शो में पहले जैसा मैजिक नहीं दिखता और कई दर्शक और टीवी एक्सपर्ट मानते हैं कि यह शो बहुत ज़्यादा चल गया है.

ख़तरों के खिलाड़ी

इमेज कॉपीरइट FILM PR

रोहित शेट्टी का स्टंट शो 'ख़तरों के खिलाड़ी' इस हफ़्ते तीसरे पायदान पर रहा है, लेकिन उम्मीद की जा सकती है कि जैसे-जैसे फ़िनाले की घड़ी नज़दीक आएगी ये शो भी टीआरपी में ऊपर जाएगा.

ये तो रही इस हफ़्ते की टीआरपी, हो सकता है अगले हफ़्ते आपको इस लिस्ट में कुछ अलग ही धारावाहिक दिखाई दें, क्योंकि टीआरपी देने वाली एजेंसी बदलने वाली है.

साथ ही अगले हफ़्ते से शुरू होने वाला है आईपीएल-7 जिसका असर धारावाहिकों की टीआरपी पर भी पड़ सकता है.

इमेज कॉपीरइट Colors

नई टीआरपी एजेंसी

वैसे हर हफ़्ते आम लोगों को चैनल और धारावाहिकों की टीआरपी के बारे में बताने वाली संस्था टैम की अब छुट्टी होने वाली है.

अगर सब कुछ निर्धारित तरीके से चला तो संभवत: अगले हफ़्ते से टेलीविज़न शोज़ का रिपोर्ट कार्ड कुछ और ही अंदाज़ में हमारे पास आएगा, क्योंकि ज़्यादातर चैनलों और एजेंसीयों ने टैम की जगह पर बार्क नामक संस्था को इसके लिए चुना है.

इसका कारण टीआरपी के नतीज़ों को लेकर रहे विवाद को माना जा रहा है. चैनल अक्सर टैम के नतीजों पर अपनी नाराज़गी जताते आए हैं. टैम के टीआरपी के आंकड़े जुटाने के तरीक़े से भी लोगों को कई शिकायतें रही हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार