आईपीएलः आग़ाज़ से पहले विवाद

  • 6 अप्रैल 2015
इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption आईपीएल फाइल फोटो

आईपीएल-8 का आग़ाज़ हुआ नहीं, विवाद पहले शुरू हो गया है.

आईपीएल के दौरान होने वाले मैचों में मैदान पर ओवर्स और पारियों के बीच लगने वाले समय में फ़िल्मी संगीत का इस्तेमाल किया जाता है. विवाद इसी संगीत से जुड़ा है.

संगीत के लिए लाइसेंस जारी करने वाली आधिकारिक संस्था 'इंडियन पर्फार्मिंग राइट सोसाइटी' (आईपीआरएस) की शिकायत है कि आयोजक संगीत के लिए शुल्क अदा नहीं करना चाहते हैं.

आईपीआरएस ने बीसीसीआई और आईपीएल को एक नोटिस भेजकर फ़िल्मी संगीत के इस्तेमाल पर संगीत कंपनियों को रॉयल्टी देने की मांग की है.

सोसायटी का कहना है, "आईपीएल आयोजन के लिए काम करने वाले बीसीसीआई, आईपीएल और एनकंपास मीडिया को हमने चिट्ठी भेजी है."

इमेज कॉपीरइट Getty
Image caption (फाइल फोटो)

हालांकि आईपीएल ने पिछले सभी सीज़न में संगीत का लाइसेंस ख़रीदा था लेकिन इस साल मामला तूल पकड़ता नज़र आ रहा है.

खिलाड़ी और खेल

आईपीएल के दौरान मैदान में संगीत बजाने का काम करने वाले डीजे मोहित ने बताया, "ये बिल्कुल सही है कि आप बिना लाइसेंस के बॉलीवुड के गानों का इस्तेमाल नहीं कर सकते और अगर आप ऐसा करते हैं तो आपका डीजे के तौर पर लाइसेंस ख़त्म हो सकता है."

इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption आईपीएल फाइल फोटो

आईपीएल की ओर से चीफ़ ऑपरेटिंग ऑफ़िसर सुंदर रामन का कहना है, "ये प्रबंधकों से ज़ुड़ा मामला है और इसका आईपीएल से कोई लेना-देना नहीं है. हम खिलाड़ियों और खेल पर ध्यान देते हैं."

वहीं प्रबंधक कंपनी 'एनकंपास मीडिया' से जुड़े रोशन अब्बास ने बताया, "हम आईपीआरएस से बातचीत कर रहे हैं, कुछ मुद्दों पर बात चल रही है. आईपीएल शुरू होने से पहले हम इसे सुलझा लेंगे."

आईपीआरएस संगीतकारों, गीतकारों, फिल्म निर्माताओं, लेखकों का आधिकारिक संगठन है जो संगीत के लिए लाइसेंस जारी करता है और रॉयल्टी लेता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं. )

संबंधित समाचार