'संगीत से किसी नशे की याद नहीं रहेगी'

  • 28 अप्रैल 2015
रोशन मनसुखानी इमेज कॉपीरइट Ayush

युवाओं में नशे के बढ़ते चलन को देखते हुए मुंबई पुलिस ने एक अनोखी पहल की है. नशे के आदी युवाओं की लत छुड़ाने के लिए पुलिस संगीत का सहारा ले रही है.

मुंबई पुलिस की 'एंटी-नार्कोटिक्स' टीम ने मुंबई में रहने वाले डीजे रोशन मनसुखानी के साथ मिलकर युवाओं को नशे से दूर करने की मुहिम शुरू की है.

नार्कोटिक्स सेल के सीनियर इंस्पेक्टर सुहास गोखले ने इस मुहिम के बारे में बीबीसी को बताया, "डीजे और रेव पार्टियों को नशे का अड्डा कहा जाता है इसलिए हमने एक डीजे की मदद से इस मुहिम की शुरुआत की है."

संगीत की मदद से युवकों को नशे से दूर रखने में डीजे रोशन मनसुखानी पुलिस की मदद कर रहे हैं.

रोशन ने बीबीसी को बताया, "डीजे बनना अपने आप में एक नशा है. जब आप अपने हुनर से लोगों को थिरकते देखेंगे तो आपको आपने आप में एक खुशी मिलेगी. इसके बाद किसी नशे की याद नहीं आएगी."

'उसके हाथ कांपते थे'

इमेज कॉपीरइट Ayush

रोशन नशे के आदी अपने एक 14 वर्षीय छात्र के बारे में बताते हैं, "उसका शरीर एक माचिस की तीली की तरह हो गया था, हाथ कांपते थे जब डीजे कंसोल छूता था. ये सब ड्रग्स का असर था "

इस छात्र को रोशन ने संगीत से जोड़ा जिससे कुछ ही दिनों में उसकी हालात में सुधार दिखने लगा.

सीनियर इंस्पेक्टर सुहास गोखले कहते हैं, "अक्सर युवा पार्टियों में किसी अंजान व्यक्ति की बातो में आकर नशे का सेवन कर लेते हैं और उन्हें पता भी नहीं चलता कि कब वो इस नशे के आदी हो जाते हैं. "

रोशन ख़ुद एक पिता हैं. वो कहते हैं, "जब बच्चों को इतनी कम उम्र में नशे की लत से जूझता देखता हूं और उनके माता-पिता से उनके बारे में सुनता हूं तो दिल दुखता है."

पिता की पीड़ा

इमेज कॉपीरइट Ayush

नशे के आदी के एक युवा के पिता ने बीबीसी से कहा, "हमारा बेटा रात-रात भर जगा रहता था. खाना खाने से उसे अरुचि हो गई थी, जिसके कारण वो शारीरिक रूप से कमज़ोर हो गया था. चिड़चिड़ापन और छोटी-छोटी बातों पर ग़ुस्सा करना उसकी आदत हो गई थी."

रोशन कहते हैं कि अगर आप अपने बच्चों में ऐसे लक्षण देखते हैं उन्हें डांटने-फटकारने की बजाय उनसे दोस्त की तरह बात करनी चाहिए.

इमेज कॉपीरइट Aarju Aalam

जो नौजवान संगीत की मदद से नशे से छुटकारा पा चुके हैं उनके साथ मिलकर रोशन अब विभिन्न स्कूलों और कॉलेजों में जाकर युवाओं तक नशे से मुक्ति के लिए संगीत का सहारा लेने का संदेश पहुंचाएंगे.

सीनियर इंस्पेक्टर सूहास गोखले मानते हैं कि जब कोई नौजवान सैकड़ों लोगों को अपनी धुनों पर थिरकते देखेगा तो उसमें आत्मविश्वास आएगा और फिर धीरे-धीरे वो नशे की लत से भी छुटकारा पा लेगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार