'ज़ी ज़िंदगी' को मिला नोटिस

  • 13 मई 2015
ज़िंदगी सीरियल इमेज कॉपीरइट zindagi

'ज़ी ज़िंदगी' के धारावाहिक ‘वक्‍़त ने किया क्‍या हसीं सितम’ पर भारतीय सिख और हिंदुओं की नकारात्मक छवि दिखाने के आरोप लगे हैं.

ज़िंदगी चैनल पर अप्रैल में शुरू हुए इस धारावाहिक को टाइमलेस लव स्‍टोरी करार दिया गया था.

लेकिन सूचना और प्रसारण मंत्रालय इसे महज़ प्रेम कहानी मानने को तैयार नहीं.

मंत्रालय ने बीसीसीसी (ब्रॉडकास्‍ट कंटेंट कॉम्‍प्‍लेंट्स काउंसिल) को इसका कंटेंट देखने की हिदायत दी है.

वहीं बीसीसीसी के अध्‍यक्ष मुकुल मुद्गल ने ‘ज़िंदगी’ चैनल को एक सम्‍मन भेजा है और इसके कंटेंट को लेकर जवाब-तलब किया है.

भारत-पाक विभाजन

फ़वाद ख़ान अभि‍नीत धारावाहिक ‘वक्‍़त ने किया क्‍या हसीं सितम’ पाकिस्‍तान में ‘दास्‍तान’ नाम से प्रसारित हुआ था.

रज़ि‍या बट की क़ि‍ताब ‘बानो’ पर आधारित ये धारावाहिक ऐसी लड़की की कहानी है जो भारत-पाक विभाजन के दौरान अपने परिवार से जुदा हो जाती है.

इसके बाद बानो के जीवन में कई पड़ाव आते हैं और उस पर जबरदस्‍ती संबंध बनाने से लेकर धर्म परिवर्तन जैसी कई बातों के लिए दबाव डाला जाता है.

बानो का किरदार सनम बलोच निभा रहीं हैं.

वहीं हसन की भूमिका में फ़वाद ख़ान हैं, जिसकी शादी राबिया नाम की लड़की से हो जाती है. लेकिन फिर भी हसन, बानो से प्रेम करता है.

शिक़ायत

इमेज कॉपीरइट zindagi

‘वक्‍़त ने किया क्‍या हसीं सितम’ में भारतीय सिक्‍ख और हिन्‍दुओं की जो छवि दिखाई जा रही है, भारतीय दर्शकों ने उस पर ऐतराज़ जताया है.

साथ ही इसकी शिक़ायत बीसीसीसी को भी की गई है कि इस तरह के धारावाहिकों से नकारात्मक छवि बन रही है.

धारावाहिक शुरू होने से पहले भी इस तरह की आपत्‍त‍ि दर्ज़ कराई गई थी, जिसके बाद कई दृश्य और डायलॉग एडिट कर दिया गया था.

इसके बाद भी इसके कंटेंट को लेकर भारतीय दर्शक संतुष्‍ट नहीं हैं.

ज़िंदगी की सफ़ाई

इमेज कॉपीरइट zindagi

‘ज़िंदगी’ चैनल ने आधि‍कारिक बयान जारी करते हुए बीसीसीसी से नोटिस मिलने की बात मानी है.

साथ ही यह भी कहा है कि इससे पहले जो भी आपत्‍त‍ि दर्ज़ की गई उनके मुताबिक़ धारावाहिक की एडिटिंग भी की गई है.

बयान में कहा गया है, "हमें बीसीसीसी से नोटिस मिला है जिसमें हमसे उन शिकायतों पर प्रतिक्रिया मांगी गई है जो बीसीसीसी को मिली हैं."

आगे कहा गया है, "हमने नोटिस पर अपनी प्रतिक्रिया भेज दी है और हम बीसीसीसी के सामने उन सारे कदमों को स्पष्ट करेंगे जो हमने सेल्फ रेगुलेटरी गाइडलाइन्स और प्रोग्राम कोड का पालन करने के लिए उठाए हैं."

चैनल ने यह भी कहा है कि विभाजन के मुद्दे को लेकर यह धारावाहिक नहीं बना, बल्‍कि‍ कुछ एपिसोड्स में इसकी पृष्ठभूमि ज़रूर है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार