'लोग तो कॉमेडी में भी कास्टिंग काउच चाहेंगे'

  • 6 जून 2015
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

भारत की जानी मानी महिला स्टैंड अप आर्टिस्ट में से एक नीति पाल्टा का मानना है कि कुछ लोग तो चाहेंगे कि कॉमेडी में भी कास्टिंग काउच हो.

कुछ ऐसी ही गंभीर बातें स्टेज पर हँसी मज़ाक में कह जाती हैं दिल्ली की नीति पाल्टा.

वो बताती हैं कि कैसे जब एक फ़ीमेल स्टैंड अप आर्टिस्ट स्टेज पर चढ़ती है तो वो इन तीन बातों को ध्यान में रखती है.

1. जोक मारना मेरा काम

इमेज कॉपीरइट neeti palta

नीति बताती हैं, "मैं जोक मार के सीधा घर निकल जाती हूं. कभी-कभी लोग यह भूल जाते हैं कि यह मेरी रोज़ी रोटी है. दो तीन पैग के बाद कुछ आदमी ये सोचते हैं कि लड़की "फ़्री" है क्योंकि बड़े जोक्स मारती है."

नीति कहती हैं, "जनाब जब आप अपनी बहन से ऐसे "फ़्री" नहीं होते तो मुझ से क्यों? कुछ तो कह जाते हैं कि मैं तुम्हें कॉमेडी के बड़े शोज़ दूंगा. वो तो चाहेंगे कि कॉमेडी में भी कॅस्टिंग काउच हो."

वो हंसते हुए कहती हैं, "आजकल एक कॉमेडियन की क्या औकात है? उनके ख़िलाफ़ एफ़आईआर दर्ज हो रही है. अगर वो जेल जाएगा तो उसके आस-पास जो कैदी होंगे वो कहेंगे कि भाई मैंने एक आदमी को मारा, तू यहां कैसे?

कॉमेडियन कहेगा, "मैंने एक जोक मारा इसलिए यहां हूं."

2. औरत भी आप पर हँस सकती है

इमेज कॉपीरइट neeti palta

नीति बताती हैं कि,"पहले तो मुझे ऑडियन्स को एहसास दिलाना पड़ता है कि देखो औरत भी तुम पर जोक मार सकती है. कई पुरुष वक़्त लेते हैं क्योंकि उन्होंने कभी किसी महिला को उन पर जोक मारते नहीं सुना."

नीति लोगों के नज़रिए पर कहती हैं, "लड़के कहते हैं कि लड़की की फ़िगर 32-24-36 हो. उसकी चाल ऐसी हो, कमर ऐसी हो. गोल हो. मैं पूछती हूं कि आप लड़की मांग रहे हो या सैंडविच.”

3. जब कोई नहीं हंसता

इमेज कॉपीरइट neeti palta

वो बताती हैं, "कभी-कभी पब्लिक जोक पर नहीं हंसती और गला सूख जाता हैं. लेकिन फिर मुझे समझाना होता है अपने आप को कि यह एक काम है. हर शो के साथ एक नया मौका मिलता है."

नीति कहती हैं कि हंसी मज़ाक के साथ भी समाज के गंभीर मुद्दों को लोगों तक पहुंचाया जा सकता है.

ग्लोबल वार्मिंग एक गंभीर मुद्दा है लेकिन नीति का एक जोक इस पर फिट बैठता है, "हम भारत के लोग बड़े आशावादी हैं. उनको बताओ कि ग्लोबल वार्मिंग की वजह से बर्फ़ पिघल रही है दुनिया में, वो कहेंगे, वाह! यानी अब अपने पैग के लिए बर्फ़ ही बर्फ़."

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार