एक बाजा उठाइए, 11 बजाइए

  • 23 जून 2015

पुणे के तबला वादक जयवंत उत्‍पात ने हैंडसॉनिक नाम का यंत्र बनाया है, जिससे ढोलकी, मृदंगम सहित करीब 11 ताल वाद्यों की आवाज़ आसानी से निकाली जा सकती है.

संगीत के जानकार ये बात अच्छे से जानते हैं कि तबले पर थाप देकर ढोलकी या मृदगंम की आवाज़ न‍िकालना संभव नहीं है.

जयवंत अक्सर विदेशों में प्रदर्शन करने जाते रहते थे. विदेशी दौरों में उन्हें सबसे ज़्यादा परेशानी आती थी कई थाप दे कर बजाने वाले बाजों को अपने साथ लेकर जाने में.

इसी समस्या से उबरने के लिए उन्होंने हैंडसॉनिक की परिकल्पना की.

आधार विदेशी

इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

जयंत बताते हैं, "इस यंत्र के लिए बेस‍िक आइड‍िया एक विदेशी यंत्र से आया लेक‍िन उससे हिंदुस्‍तानी वाद्य यंत्रों को नहीं बजाया जा सकता था."

विदेशी यंत्र भारत में बुरी तरह फ्लॉप हुआ और आख़िरकार उसे बंद भी कर द‍िया गया लेकिन जयवंत ने अपने तमाम दौरों के साथ इस यंत्र पर काम करना शुरू कर दिया और कई टेस्‍ट के बाद साल 2014 में 'हैंडसॉनिक' बना लि‍या.

इस डेढ़ क‍िलोग्राम के यंत्र का पेटेंट होना अभी बाकी है लेकिन इसका इस्तेमाल लाइव कार्यक्रमों में किया जा रहा है.

क‍ितना मददगार

इमेज कॉपीरइट jayvant utpat
Image caption सुरेश तलवलकर कहते हैं कि ये वाद्य यंत्र कमाल का है.

अपने आव‍िष्‍कार पर बॉलीवुड की प्रत‍िक्रि‍या के बारे में जयवंत बताते हैं, “कुछ संगीतकारों से बात चल रही है जो इसे अपने वाद्य यंत्रों में शाम‍िल करना चाहते हैं लेकि‍न पेटेंट के अभाव की वजह से अभी इसे क‍िसी को दे नहीं सकता.”

अब इस यंत्र की संगीत की दुनिया में क्‍या कुछ भूम‍िका होगी, इसपर जाने-माने परकशनिस्ट सुरेश तलवलकर कहते हैं, “वैसे तो यह यंत्र वाकई कमाल का है. इससे निकलने वाली आवाज़ 95 प्रति‍शत तक असल के करीब होती है. लेक‍िन बिना बेसिक जाने, कोई इसे नहीं बजा सकता. इसे बजाने के लिए भी आपको ताल आदि का ज्ञान होना चाहि‍ए.”

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार