संजीव कुमार की कौन सी इच्छा रह गई अधूरी?

  • 9 जुलाई 2016
इमेज कॉपीरइट Anjoo Mahendru

फ़िल्म अभिनेता संजीव कुमार की 78वीं जयंती पर उनकी करीबी दोस्त और मुंहबोली बहन अंजू महेंद्रू ने बीबीसी हिन्दी को बताई उनसे जुड़ी कई दिलचस्प बातें.

इमेज कॉपीरइट Anjoo Mahendru

अंजू महेंद्रू ने बताया कि संजीव कुमार की मुंबई में अपना एक बंगला खरीदना चाहते थे.

जब उन्हें कोई बंगला पसंद आता और उसके लिए पैसे जुटाते तब तक उसके भाव बढ़ जाते. यह सिलसिला कई सालों तक चला.

अंजू बताती हैं, "जब पैसा जमा हुआ, घर पसंद आया तो पता चला की वह प्रॉपर्टी कानूनी पचड़े में फंसी है. मामला सुलझे उससे पहले 6 नवंबर 1985 को 47 साल की उम्र में वह चल बसे."

इमेज कॉपीरइट Anjoo Mahendroo

संजीव कुमार का असली नाम हरीभाई जरीवाला था और करीबी लोग उन्हें हरीभाई कहते थे.

पर्दे पर अक्सर गंभीर किरदार निभाने वाले संजीव कुमार असल ज़िन्दगी में भी संजीदा थे.

इमेज कॉपीरइट Anjoo Mahendroo

अंजू कहती हैं, "जिन महिलाओं के साथ भी उनका अफ़ेयर रहा उन पर संजीव बहुत शक़ किया करते थे. उन्हें लगता था कि वे उन्हें नहीं उनके पैसों को चाहती हैं. इसी धारणा के चलते उनकी शादी नहीं हो पाई. मैं हरीभाई को कहती थी की अगर किसी औरत पर भरोसा नहीं किया तो कुंवारे ही मर जाओगे, और देखिए वही हुआ."

इमेज कॉपीरइट anju mehandru and lalita lajmi

गुरु दत्त और संजीव कुमार का जन्म एक ही तारीख 9 जुलाई को हुआ.

अब इसे संयोग ही कहेंगे की गुरु दत्त की असमय मौत के बाद निर्माता-निर्देशक के आसिफ अपनी फ़िल्म 'लव एंड गॉड' के लिए एक ऐसे अभिनेता की तलाश कर रहे थे, जो पर्दे पर अपनी अदाकारी से अपनी छाप छोड़ जाए. उन्हें वो अभिनेता संजीव कुमार के रूप में मिला.

इमेज कॉपीरइट Anjoo Mahendru

संजीव कुमार और के आसिफ का रिश्ता तब से था जब वे अपनी एक फ़िल्म 'सस्ता खून मंहगा पानी' की शूटिंग कर रहे थे, किसी वजह से उन्होंने गुस्से में संजीव कुमार को एक्टिंग भूल कर घर जाने को कहा था.

हालांकि जब ये फ़िल्म रिलीज़ हुई तब तक संजीव कुमार और के आसिफ दोनों का देहांत हो चुका था. इस फ़िल्म को के आसिफ की पत्नी अख्तर आसिफ ने पूरा किया.

इमेज कॉपीरइट Anjoo Mahendru

संजीव को हमेशा एक फिक्र रहती थी कि उनके परिवार में ज़्यादातर पुरुषों की मौत 50 से पहले हुई थी.

संजीव के छोटे भाई की मृत्यु भी कम उम्र में होने से उन्हें बहुत बड़ा धक्का लगा था, जिसकी वजह से उन्हें भी ज़्यादा ना जी पाने का डर बैठ गया.

संजीव कुमार को स्क्रीन पर अपनी जोड़ी जया बच्चन के साथ पसंद थी, दोनों ने साथ में कई फ़िल्में कीं.

इमेज कॉपीरइट Anjoo Mahendru

संजीव कुमार के किरदारों को दिलीप साहब कई बार सराहा.

वो जब भी कहते कि, मैं भी जल्द चला जाऊंगा, तो अंजू उनसे कहतीं, "हरि चुप रहो. ज़्यादा पिया मत करो खाने-पीने का ध्यान रखो तुम्हें कुछ नहीं होगा."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार