'मुझे पिटता देख बुरा मान जाती है वो'

  • 8 जुलाई 2015
इमेज कॉपीरइट Hardly Anonymous Pr

फ़िल्म 'किक' और 'बदलापुर' में नेटेगिव भूमिका निभाने वाले नवाज़ुद्दीन सिद्दिकी की बेटी इन दिनों नाराज़ है.

उनकी बेटी जब इन फिल्मों में अपने पिता को सलमान ख़ान और वरुण धवन के हाथों पिटता देखती है, तो उसे बहुत बुरा लगता है.

नवाज़ुद्दीन कहते हैं, "मेरी बेटी पांच साल की है. फ़िल्मों में जो भी मुझे पीटता है वो उसे गालियां देती है, नाराज़ हो जाती है."

बदलाव

एक वक़्त ऐसा भी था जब नवाज़ुद्दीन एक ब्रेक के लिए तरस रहे थे. लेकिन आज उनके पास फ़िल्मों की कमी नहीं है.

इमेज कॉपीरइट Universal PR

कामयाबी मिलने के बाद नवाज़ुद्दीन की ज़िन्दगी में क्या बदलाव आया है, इस पर नवाज़ुद्दीन कहते हैं, "पैसों का मोह तो न पहले था और न ही आज है. जो काम करता हूँ उसी का मेहनताना मिल जाए, उससे बड़ी बात क्या हो सकती है मेरे लिए. मैं आज भी सूती शर्ट और मामूली जींस पहनता हूं, किसी ब्रांड पर ध्यान नहीं देता."

वे कहते हैं, "मैं आज भी अपने आपको वही मानता हूँ जो पहले था. मेरा मानना है कि एक्टर के हाथ में हिट और फ्लॉप तो नहीं हैं लेकिन अच्छा काम करने की कोशिश करना हमारे हाथ में है."

टाइपकास्ट

नवाज़ुद्दीन को नकारात्मक किरदार बार-बार निभाने से खलनायक वाली छवि से कोई दिक्कत तो नहीं.

नवाज़ुद्दीन कहते हैं, "नेटेगिव रोल बार बार मिलने का मुझे ज़रा भी डर नहीं हैं क्योंकि आज मुझे हर तरह के किरदार निभाने का मौका मिल रहा है."

उनका कहना है, "कोई भी किरदार किसी दूसरी फ़िल्मों से ज़रा भी मिलता जुलता नहीं दिखेगा. इसलिए मुझे खलनायक की भूमिका निभाने से टाइपकास्ट होने का डर नहीं हैं."

फ़िल्में ठुकराना

इमेज कॉपीरइट UNIVERSAL PR

लगातार कई फ़िल्मों के प्रस्ताव आने से नवाज़ुद्दीन को कई बड़े निर्माता और निर्देशकों को 'ना' बोलना पड़ा है.

यहां तक कि 'ना' बोलने के कारण कई लोग उनसे नाराज़ भी हो जाते हैं.

नवाज़ुद्दीन कहते हैं कि, "फ़िल्में ठुकराना मेरी औकात नहीं है और ना ही मैं ठुकराता हूँ. पर कभी-कभी क्या होता है कि आपके बिजी शेड्यूल की वजह से आपको न चाहते हुए भी ना कहना पड़ता है क्योंकि मेरी पहले की कुछ फ़िल्में हैं जिनके लिए मैंने हामी भरी है."

उनके मुताबिक़, "पहले जिन्हें ज़बान दे दी है, उन फ़िल्मों को पहले निभाना है और इसीलिए दूसरी फ़िल्मों को ना कहना पड़ता है."

शोहरत

नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी के लिए शोहरत मिलना और उसे संभालना बहुत मुश्किल है.

इमेज कॉपीरइट AFP

वो कहते हैं, "शोहरत मिलने में पूरे 15 साल लग गए और अब इस शोहरत को संभालना मेरे लिए बहुत मुश्किल है. ये हुनर मैं तीनों ख़ान से सीख रहा हूँ. क्योंकि तीनों ख़ान ने अपनी इस कामयाबी और शोहरत को लंबे समय से उसी तरह बनाए रखा है जैसा वो चाहते थे."

नवाज़ुद्दीन ने कहा, "मैं जानता हूँ कि ये इतना आसान नहीं है और अगर मैं ख़ान के मुक़ाबले आधी शोहरत भी बना पाया तो वो मेरे लिए बहुत बड़ी बात होगी."

निर्देशक कबीर ख़ान की फ़िल्म 'बजरंगी भाईजान' में नवाज़ुद्दीन पाकिस्तानी पत्रकार का किरदार निभा रहे हैं.

सलमान और नवाज़ुद्दीन फ़िल्म 'किक' के बाद एक बार फिर साथ में दिखेंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार