'पाक को आतंकवाद का पर्याय समझना ग़लत'

बजरंगी भाईजान इमेज कॉपीरइट spice

'बजरंगी भाईजान' को मिली सफलता के बाद निर्देशक कबीर ख़ान अपनी अगली फिल्म 'फ़ैंटम' के प्रचार में जुटे हुए हैं, जिसके लिए उन्होंने मुंबई पर चरमपंथी हमले जैसे संवेदनशील विषय का चुनाव किया है.

इमेज कॉपीरइट PR Agency

इस फ़िल्म के ट्रेलर लॉन्च के मौके पर एक पत्रकार ने जब 'एजेंट विनोद' को पाकिस्तान विरोधी बताया तो कबीर ने कहा, "लोगों की पाकिस्तान को आतंकवाद का पर्याय समझने की मानसिकता ग़लत है. मेरी फिल्में 'बजरंगी भाईजान' और 'फ़ैंटम' इसी ग़लत मानसिकता पर आधारित हैं."

उन्होंने कहा, "दोनों देशों में परस्पर दोस्ती और अमन तब ही क़ायम हो सकता है जब दोनों तरफ़ अतिवादी तत्वों का अंत हो."

इमेज कॉपीरइट SPICE

समारोह में मौजूद एक पत्रकार ने कबीर की इस बात पर ख़ासी नाराज़गी जताई कि वे भारत में किन 'अतिवादी तत्वों' की बात कर रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट spice

इस पर कबीर ने पहले अपना पक्ष स्पष्ट करने की कोशिश की परंतु पत्रकार की आक्रामक टिप्पणियों के बीच वे बरस पड़े, "अगर आप इसी तरह चीख़ते रहे तो मै इस वाद-विवाद में नहीं पड़ने वाला."

'बजरंगी भाईजान' को मिली सफलता के बाद कबीर 'फ़ैंटम' के साथ 'पाकिस्तान-विरोधी' का तमग़ा नहीं जोड़ना चाहते. उनकी फ़िल्म 'एक था टाइगर' पर पाकिस्तान में रोक लग चुकी है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार