जब पृथ्वी पर हुआ एलियंस का हमला..

  • 3 अगस्त 2015
इमेज कॉपीरइट sony pictures

भारत में हॉलीवुड फ़िल्मों का बाज़ार तेज़ी से बढ़ रहा है. हाल ही में रीलीज़ हुई फ़िल्में जुरासिक पार्क, ईनसाईड आउट भारत में काफ़ी बिज़नेस कर चुकी हैं और इसलिए हॉलिवुड की नई पेशकश पिक्सल में आपको काफ़ी कुछ भारतीय दिखेगा.

होम अलोन जैसी सुपरहिट फ़िल्म बना चुके निर्देशक क्रिस कोलंबस 'पिक्सल' में हॉलीवुड के मशहूर कॉमिक अभिनेता एडम सैंडलर के साथ एक ऐसी फ़िल्म लेकर आ रहे हैं जिस पर एडम का करियर निर्भर करता है.

बोझिल कॉमेडी

इमेज कॉपीरइट sony pictures

अगर आप यह फ़िल्म देखने जा रहे हैं तो सलाह यही है कि आपका सिर दर्द हो सकता है.

ये कहानी पहले भी कही-सुनाई-दिखाई जा चुकी है. कहानी काल्पनिक है और उसके मुताबिक धरती पर दूसरे ग्रह के जीवों का हमला हो जाता है और इस बार भी अमरीका पर ये हमला सबसे भारी है.

बस इस बार फ़र्क इतना है कि इन जीवों के हमला का कारण 80 के दशक में खेले जाने वाले कंप्यूटर गेम्स हैं जिन्हें ग़लती से पृथ्वी की ओर से लड़ाई का संकेत मानकर ये जीव हमला बोल देते हैं.

इस फ़िल्म की टार्गेट ऑडियंस वो 80 और 90 के दशक के युवा हैं जो पैक मैन, डांकी कोंग और मारियो जैसे वीडियो गेम्स खेल कर बड़े हुए हैं और इन वीडियो गेम्स में इस्तेमाल हुए कैरेक्टर्स इस फ़िल्म में भी आपको मिलेंगे.

ख़ासा ख़र्च हुआ

इमेज कॉपीरइट sony pictures

इस फ़िल्म के निर्देशक क्रिस कोलंबस बता चुके हैं कि फ़िल्म को बनाने में काफ़ी खर्चा हुआ है.

हालांकि 8.8 करोड़ डॉलर के बजट में बनी ये फ़िल्म विश्वभर में 10 करोड़ डॉलर से ज्यादा की कमाई कर चुकी है.

लेकिन 8.8 करोड़ डॉलर सिर्फ़ फ़िल्म को बनाने का खर्चा है, इसके प्रचार और रीलीज़ में हुआ खर्चा बहुत ज्यादा है, जिसकी भरपाई मुश्किल लग रही है.

इस फ़िल्म को विश्वभर में फ़िल्म समीक्षकों की ओर से नकारात्मक रिव्यू मिले हैं और मुंबई में जहाँ हमने ये फ़िल्म देखी वहां भी 120 सीटों वाले हॉल में कुल 16 लोग मौजूद थे.

भारत पर नज़र

इमेज कॉपीरइट skydance

बीते कुछ समय से हॉलीवुड फ़िल्मों में भारत को काफ़ी प्रमुखता से दिखाया जाता है क्योंकि हॉलीवुड निर्माताओं को समझ में आ गया है कि हॉलीवुड फ़िल्मों का एक बड़ा दर्शक वर्ग यहां भी मौजूद है.

जुरासिक पार्क में इरफ़ान ख़ान का होना, मिशन इम्पॉसिबल में अनिल कपूर का होना, इस बात को दर्शाता है कि हॉलिवुड में भारत भी एक ज़रूरी एलिमेंट बनता जा रहा है और इस फ़िल्म में भी आपको ताजमहल, भारतीय दुकानें और कुछ भारतीय लोग नज़र आएंगे.

फ़िल्म के ग्राफ़िक्स कमाल के हैं और थ्री डी में आपको ऐसा लगेगा कि आप वाकई किसी वीडियो गेम का हिस्सा हैं.

करियर दांव पर

इमेज कॉपीरइट sony pictures

चाहे ये फ़िल्म अच्छा नहीं कर रही, लेकिन 48 वर्षीय अभिनेता एडम सैंडलर के लिए यह फ़िल्म बहुत महत्वपूर्ण है.

एडम हॉलीवुड की कई सुपरहिट फ़िल्मों का हिस्सा रहे हैं लेकिन साल 2013 में रीलीज़ हुई उनकी फ़िल्म 'ग्रोन अप्स 2' के बाद से उनकी किसी भी फ़िल्म ने अच्छा बिज़नेस नहीं किया है.

वैसे अगर आप एडम सैंडलर की कॉमिक टाईमिंग के जबर्दस्त फ़ैन हैं तो शायद आपको यह फ़िल्म निराश नहीं करेगी. एडम टाईपकास्ट हो गए हैं और यह फ़िल्म में नज़र आता है.

फ़िल्म पर अमरीका और यूरोप के कई देशों में महिला विरोधी होने का भी आरोप लगा है क्योंकि इस फ़िल्म में महिलाओं को वस्तु की तरह दिखाया गया है.

महिला को औज़ार या ट्रोफ़ी (ईनाम) की तरह भी दिखाया गया है.

भारत में सेंसर बोर्ड ने ऐसे कई दृश्यों पर कैंची चला दी है लेकिन यूट्यूब पर यह दृश्य अभी भी हैं और इनके चलते फ़िल्म निर्माताओं की जमकर किरकिरी हो रही है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार