उम्मीद है गीता के मां-बाप मिल जाएँगे: सलमान

इमेज कॉपीरइट AFP

बॉलीवुड स्टार सलमान ख़ान को उम्मीद है कि पाकिस्तान की गीता के असली माता-पिता आख़िरकार मिल ही जाएँगे.

भारतीय बताई जाने वाली गीता वर्ष 2003-2004 में पाकिस्तान में लाहौर के पास मिली थी और भारत में उसके मां-बाप या रिश्तेदारों को खोजने की काफ़ी कोशिश हुई है.

सोमवार को सलमान ने मीडिया से बातचीत में कहा, "मैंने इस केस के बारे में सुना, उसके इतिहास के बारे में सुना और हमारी फ़िल्म के बाद इस केस में एक नई जान आ गई है और मुझे उम्मीद है कि हम उसके असली माता पिता को ढूंढ लेंगे."

उन्होंने पाकिस्तान में गीता का ध्यान रखने के लिए के सामाजिक कार्यकर्ता अंसार बर्नी की संस्था का शुक्रिया किया.

उन्होंने कहा, "वो संस्था जो गीता का ख़्याल रख रही है, मैं उन लोगों का शुक्रगुज़ार हूं, उन्होंने अभी तक उसे सलामत रखा. अब तो इसमें सरकार भी जुट गई है तो मुझे उम्मीद है कि मामला जल्द सुलझेगा."

लेकिन सलमान इस सवाल का कोई स्पष्ट जवाब नहीं दिया कि क्या उनकी फ़िल्म गीता मामले से प्रेरित है या फिर वो इस बारे में कर क्या रहे हैं.

याक़ूब पर कुछ नहीं बोले

मुंबई हमलों के दोषी याक़ूब मेमन के बारे में हुए ट्विटर विवाद के बाद पहली बार सलमान ख़ान आज मीडिया से मुख़ातिब थे.

इमेज कॉपीरइट spice

सलमान ने इस मामले पर बात करने से इ्ंकार कर दिया. उन्होंने कहा याक़ूब के सवाल पर फिर कभी बात करेंगे.

अवार्ड्स के मुद्दे पर सलमान बोले, "जो लोग कहते हैं कि सलमान को नेशनल अवार्ड मिलना चाहिए उनका शुक्रिया, पर मैं समझता हूं कि मुझसे कई बेहतर अभिनेता हैं..."

इमेज कॉपीरइट spice

सलमान ने आगे कहा, "वैसे लोगों का प्यार जो मुझे मिल रहा है वही सबसे बड़ा नेशनल अवार्ड है मेेरे लिए."

'कबीर पर भरोसा'

इमेज कॉपीरइट spice

बजरंगी भाईजान के निर्देशक कबीर ख़ान की अगली फ़िल्म 'फ़ैंटम' के पाकिस्तान में बैन हो जाने के बारे में वो बोले, "मैंने अभी ये फ़िल्म नहीं देखी है इसलिए मैं यह तो नहीं कहूंगा कि इसे बैन होना चाहिए या नहीं लेकिन मेरा कबीर में पूरा भरोसा है कि वो ऐसी कोई फ़िल्म बना ही नहीं सकता जिससे किसी को दुख पहुंचे."

इन सब मुद्दों के अलावा सलमान ने शोले के 40 साल, अपनी होम प्रोडक्शन हीरो और साल 2016 में आने वाली अपनी फ़िल्म सुल्तान के लिए वज़न बढ़ाने की बात कही.

आज़ादी के मायने सलमान ख़ान के लिए क्या हैं? इस सवाल पर जाते जाते सलमान बोले, "मेरे हिसाब से आज़ादी है जब आप ज़िंदगी आज़ादी से बिताओ, आपको बोलने की आज़ादी हो और आप आज़ाद घूम सको, रह सको."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार