चारों ख़ाने चित हुए 'फैंटास्टिक 4'

  • 23 अगस्त 2015
इमेज कॉपीरइट 20th centure fox

रेटिंग - *1/2 (डेढ़ स्टार)

कौन कहता है कि सिर्फ़ बॉलीवुड में ही लंबे चौड़े बजट के साथ ख़राब फ़िल्में बनती हैं, हॉलीवुड भी ऐसा कर सकता है और इसका जीवंत उदाहरण है फ़ैंटास्टिक 4.

यह फ़िल्म इतनी ख़राब बन पड़ी है कि फ़िल्म के निर्देशक जोश ट्रैंक ने फ़िल्म की रिलीज़ से पहले ही इससे पल्ला झाड़ लिया था.

निर्देशक का आरोप है कि फ़िल्म की निर्माता कंपनी '20 सेंचुरी फ़ॉक्स' ने उनके काम में दखलअंदाज़ी की है और वे फ़ाइनल प्रोडक्ट से ख़ुश नहीं है.

और यक़ीन मानिए जब आप यह फ़िल्म देखेंगे तो आप भी निराश ही होंगे.

कोशिश

इमेज कॉपीरइट 20th centure fox

मार्वल फ़िल्मों के शौकीन ये जानते हैं कि 'फ़ैंटास्टिक 4' भी उसी मार्वल यूनिवर्स का हिस्सा है जिसमें कैप्टन अमेरिका, आईरन मैन और एक्स मैन जैसे सुपरहिट हीरो आते हैं.

लेकिन मार्वल फ़िल्म के धोखे में आकर आप इसे मार्वल की 'एवेंजर्स' जैसी फ़िल्म न समझें.

साल 1986 में इस फ़िल्म के राइट्स मार्वल से ले लिए गए थे और उसके बाद साल 2005 और 2007 में आई फ़िल्मों ने हालांकि अपनी लागत वसूली लेकिन लोगों ने उन्हें पसंद नहीं किया.

फिर से फ़्लॉप

इमेज कॉपीरइट 20th century fox

साल 2015 में निर्माता कंपनी ने इस फ़िल्म को एक नए सिरे से और एक नई कहानी के साथ शुरू करने की कोशिश की लेकिन यह फ़िल्म पुरानी फ़िल्मों से भी ख़राब बन पड़ी है.

दर्शक फ़िल्म में 'फैंटास्टिक 4' यानी मिस्टर फ़ैंटास्टिक, इनविज़िबल वूमैन, ह्यूमन टॉर्च और थिंग के एक्शन सीन और कारनामे देखने जाते हैं लेकिन अफ़सोस फ़िल्म में एक्शन दृश्य सिर्फ़ नाममात्र के हैं.

किसी धारावाहिक सी लगती इस फ़िल्म की बोरियत में तड़का लगाते हैं फ़िल्म की सुस्त गति, बोझिल संवाद और ख़राब ग्राफ़िक.

कहानी

इमेज कॉपीरइट 20 centurey fox

अगर फ़िल्म की इतनी 'तारीफ़' सुनने के बाद भी आप इस फ़िल्म की कहानी जानने के इच्छुक हैं तो लीजिए.

एक तेज़ दिमाग युवक रीड रिचर्डस अपने साथी बेन के साथ मिलकर एक ऐसा यंत्र बनाता है जिसकी सहायता से किसी दूसरे ब्रह्मांड में मौजूद ग्रह पर पहुंचा जा सकता है.

एक वैज्ञानिक उसके इस यंत्र की क्षमता को पहचान कर चार और तेज़ दिमाग बच्चों के साथ मिलकर इस यंत्र का बड़ा प्रारूप तय करता है और फिर इस यंत्र से बच्चे पहुंच जाते हैं दूसरे ग्रह पर.

ग्रह पर हुए एक हादसे से चार युवाओं को मिलती हैं कमाल की शक्तियां जिनसे वो कोई ख़ास कमाल नहीं दिखाते और एलियन ग्रह पर पीछे रह गए एक वैज्ञानिक को मिलती है नकारात्मक शक्ति जो ज़ाहिर तौर पर इन 4 युवाओं से भिड़ता है.

किसी हिंदी फ़िल्म की तरह सिर्फ़ पांच मिनट में विलेन मारा जाता है, असत्य पर सत्य की जीत होती है और फ़िल्म ख़त्म, हां दर्शक ख़ुद को ठगा सा महसूस करते हैं पर इससे फैंटास्टिक 4 को क्या ?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार