रेत की घाटी, जो बदलती है रंग रुप

wadi_e_ram

वादी ए रम....अरबी भाषा में इसका मतलब होता है रेत की घाटी.

अरब देश जॉर्डन में लगभग सात सौ किलोमीटर में फैली ये घाटी रेत के दूसरे मैदानों से अलग है ,क्योंकि यहाँ रेत के मैदानों के साथ पहाड़ भी हैं जो घाटी को नया रंग देते हैं .

रेत की घाटी को चाँद की घाटी भी कहा जाता है ,शायद इसलिए कि यहाँ वो चाँद नहीं निकलता जो दूसरी जगहों पर निकलता है.

कभी इस घाटी में हरियाली हुआ करती थी पर आज तो ऐसे मोटी घांस होती है जिसको ऊंट भी नहीं खाते.

बताया जाता है कि घाटी के पहाड़ों पर कई शिला लेख हैं जिनको यहाँ रहने वाले आदिवासियों ने समय समय पर लिखा गया .

रेत की घाटी की सुंदरता वास्तव में किसी भी चित्रकार को हैरान कर सकती है.

पानी, हवा और समय ने मिलकर पहाड़ों में जो आकृतियां बनाई है उनका कोई जवाब नहीं हो सकता.

इमेज कॉपीरइट indu pandey

इस मैदान को तेज़ हवा या आंधियां देखते देखते नए अंदाज़ में सवार देती है और इसके साथ ही हर बार एक नई छटा बनती और बिगड़ती है .

कई फिल्मों की शूटिंग भी यहाँ होती रहती है बॉलीवुड की फ़िल्म कृष 3 का गाना दिल तू ही बता यहीं फ़िल्माया गया है