'पिता पर फ़िल्म बनाना मुश्किल'

अभिनेता सैफ़ अली ख़ान कहते हैं कि उनके पिता मंसूर अली ख़ान पटौदी पर फ़िल्म बनाना मुश्किल काम होगा.

चलन

इमेज कॉपीरइट Balaji Telefilms

हाल के दिनों में हिन्दी फ़िल्म जगत में खिलाड़ियों के जीवन पर फ़िल्म बनाने का सिलसिला शुरु हुआ है, जहा एक तरफ़ एकता कपूर के प्रोडक्शन बालाजी टेलीफ़िल्म द्वारा बन रही भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान मो. अज़रुद्दीन के जीवन पर आधारित फ़िल्म जिसमे अभिनेता इमरान हाश्मी मुख्य भुमिका में दिखेंगे तो वही दूसरी तरफ़ भारतीय एकदिवसीय क्रिकेट टीम के मैजूदा कप्तान महेंद्र सिंह धोनी पर आधारित फ़िल्म भी बन रही है जिसमे अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत, धोनी का किरदार निभाऐंगे.

मुश्किल किरदार

एक अंग्रेज़ी वेबसाइट के मुताबिक़ आभिनेता सैफ़ अली ख़ान से पूछे जाने पर की उनके पिता नवाब पटौदी के जीवन पर फ़िल्म बनाने के लिए क्या उनसे संपर्क किया गया है? तो उन्होंने सीधा जवाब ना देता हुए कहा, "मैं दिलचस्प कहानी के लिए सुझाव देने को तैयार हूं." उन्होंने आगे कहा, "मेरा उस फ़िल्म में काम करना पटकथा पर निर्भर करता है, मुझे लगता है कि अधिकतर अभिनेता इसे नहीं कर सकते. वे एक स्टाइलिश बल्लेबाज़ थे, उनकी नक़ल करना बेहद मुश्किल होगा अगर मैं एक बेटे के तौर पर उनके किरदार के साथ न्याय नहीं कर सका तो मेरे लीए यह काफ़ी बुरी बात होगी."

सैफ़ ने कुछ वक़्त पहले भी अपने पिता पर एक डॉक्यूमेंटरी बनाने की इच्छा जताई थी लेकिन ऐसा लगता है की वह अब भी इस पर विचार कर रहे हैं, उनसे जब डॉक्यूमेंटरी के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, "एक डॉक्यूमेंटरी बनाने के लिए काफ़ी अधिक फ़ुटेज लगता है, अगर हमें उतना फ़ुटेज मिल जाए तो एक अच्छी डॉक्यूमेंट्री बन सकती है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार