'सरकार के कानों में जूं तक नही रेंग रही'

  • 17 सितंबर 2015

गजेंद्र चौहान की एफ़टीआईआई के चेयरमैैन के तौर पर नियुक्ति के ख़िलाफ़ छात्रों का विरोध प्रदर्शन थमने का नाम नहीं ले रहा.

तीन महीने से भी अधिक समय से चल रहे इस विरोध प्रदर्शन को कुछ छात्रों ने बुधवार को मुंबई के आज़ाद मैदान में आगे बढ़ाया, इस विरोध प्रदर्शन में उनके साथ उनके माता-पिता भी मौजूद थे.

इमेज कॉपीरइट madhu

छात्रों का हौसला बढ़ाने पहुचे बॉलीवुड अभिनेता विनय पाठक ने कहा "सरकार के कानों में जूं तक नहीं रेंग रही है, सरकार को छात्रों से मिलना चाहिए और उनकी समस्या का समाधान निकालना चाहिए."

बॉलीवुड का समर्थन

इमेज कॉपीरइट madhu

बीते कुछ दिनों में बॉलीवुड खुल कर छात्रों के समर्थन में सामने आया है, इस मौक़े पर मौजूद अभिनेता रजत कपूर का भी कहना है की "पिछले एक हफ़्ते से छात्र भूख हड़ताल पर बैठे हैं लेकिन सरकार की तरफ़ से कोई जवाब नहीं आया, जब सरकार देश के बड़े मुद्दों को सुलझा सकती हैं तो उन्हें इन छात्रों पर भी ध्यान देना चाहिए."

पिछले दिनों निर्माता-निर्देशक महेश भट्ट ने भी इस मुद्दे पर टिप्पणि करते हुए कहा था, "इस मामले में राजनितिक दख़ल नही होना चाहिए सरकार को कलाकारों की तरफ़ से भी सोचना पड़ेगा."

वहीं निर्माता-निर्देशक जोड़ी अब्बास और मस्तान भी मानते हैं की अब काफ़ी समय हो गया है सरकार को छात्रों की बात कम से कम सुन तो लेनी ही चाहिए.

छात्र परेशान

इमेज कॉपीरइट madhu

एफ़टीआईआई में पढ़ने वाले विराज कहते हैं, "एफ़टीआईआई के छात्रों को किसी प्रकार की भी सुविधाएं नहीं हैं अब बात सिर्फ़ गजेंद्र चौहान की नियुक्ति की नहीं हैं हमें ज़रुरत की चीज़े भी मुहैया नहीं कराई जाती." वे आगे बताते हैं, "एसे ही सब कारणों के चलते अभी तक 2008 का बैच भी अपना कोर्स पूरा नही कर पाया हैं."

इमेज कॉपीरइट madhu

वहीं इन छात्रों के साथ मौजूद उनके माता-पिता का कहना हैं कि अगर आज हम अपने बच्चों का समर्थन कर रहे हैं तो इसलिए क्योंकि हम जानते है उनके साथ ग़लत किया जा रहा हैं".

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार