'चार्ल्स शोभराज इनोसेंंट है'

  • 29 सितंबर 2015

चार्ल्स शोभराज ने 70 और 80 के दशक में गुनाह की दुनिया में ऐसे-ऐसे कारनामों को अंजाम दिया, जिसने कई मुल्कों की पुलिस की नींद हराम कर दी थी.

एक रहस्यमयी मगर आकर्षक शख्सियत के तौर पर जाने जानेवाले उसी चार्ल्स शोभराज की जेल-ब्रेक की वारदात के इर्द-गिर्द बुनी गई फ़िल्म 'मैं और चार्ल्स' बनकर तैयार है.

चार्ल्स के कारनामों को पर्दे पर उतारने की जिम्मेदारी रणदीप हुड्डा को मिली है.

सेंसर से पास

फ़िल्म के ट्रेलर में नज़र आए बोल्ड सीन्स पर सेंसर की किसी आपत्ति के बारे में निर्देशक प्रवाल रमन कहते हैं, "जब आप यह ट्रेलर देख रहें हैं और इनमें यह सीन मौजूद हैं, तो ज़ाहिर हैं उन्हें कोई दिक्कत नहीं होगी."

यही सवाल जब अभिनेता रणदीप हुड्डा से पूछा गया तो वे कहते हैं, "पता नहीं सेंसर अभी फ़िल्म में से कितने सीन्स कट करेगा, फ़िलहाल ट्रेलर यही है और मेरे काम यानी अभिनय में मुझे बड़ा मज़ा आया."

बहरहाल, फ़िल्म के ट्रेलर लांच के मौके पर रणदीप हुड्डा चार्ल्स शोभराज वाले गेट-अप में नजर आए और असली चार्ल्स की तरह ही विदेशी लहजे में बोलने की शुरुआत की.

रिचा चड्डा

फ़िल्म 'मसान' की सफ़लता के बाद फ़िल्म 'मैं हूं चार्ल्स' में रणदीप हुड्डा के साथ नज़र आ रही रिचा चड्ढा बोल्ड किरदार करने के लिए जानी जाती हैं, लेकिन रिचा चाहती हैं कि वे बाकी अभिनेत्रियों की तरह सॉफ़्ट किरदार भी करें.

वे पत्रकारों से बात करते हुए कहती हैं, "मैं तो इंतज़ार ही कर रही हूं की मुझे कोई 'बबली', ग्लैमरस या हल्का किरदार करने का मौका मिले क्योंकि मैं गंभीर मुद्दो पर फ़िल्म काफ़ी कर चुकी हूं".

'गैंग्स ऑफ़ वासेपुर', 'फ़ुकरे' और 'मसान' जैसी फ़िल्में करने के बाद रिचा चड्ढा की छवि एक गंभीर कलाकार की तरह उभर कर सामने आई हैं.

चार्ल्स 'इनोसेंट' था

चार्ल्स शोभराज पर रणदीप हुड्डा कहते हैं, "उसका इतिहास बेशक अच्छा नहीं था, मगर वो बेगुनाह था. हर अपराधी खुद को बेगुनाह मानता है."

12 कत्लों के इल्ज़ाम में कई दफ़ा जेल जाने और फिर फरार होने की कोशिश करने वाले चार्ल्स शोभराज के बारे में रणदीप जब बोले तो बहुतों को समझ नहीं आया कि ये उनकी निजी राय है या फिर उनके फ़िल्मी किरदार चार्ल्स की.

लेकिन बाद में रणदीप ने स्पष्ट किया, "अभी मैं किरदार में हूं और चार्ल्स, जो मैं बना हूं, बड़ा इनोसेंट है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार