डरता हूं, ढोंगी ना बन जाऊं: इम्तियाज़ अली

इमेज कॉपीरइट spice

हाईवे और रॉकस्टार जैसी गहरी संवेदनात्मक और सुपरहिट फ़िल्में बना चुके निर्देशक इम्तियाज़ अली मानते हैं कि फ़िल्मी दुनिया के लोग राजनैतिक बयानों के लिए फ़िट नहीं हैं.

वो कहते हैं, "बतौर निर्देशक और फ़िल्ममेकर मैं मानता हूं कि देश विदेश में हो रहे उथल पुथल से हम प्रभावित होते हैं, हम उसे समझ सकते हैं, दिखा सकते हैं लेकिन पूरी जानकारी के बग़ैर उसपर कोई राय नहीं दे सकते."

देश में गोमांस को लेकर चल रही हलचलों पर वो कहते हैं, "मुझे इस मामले में ज़्यादा जानकारी नहीं है और माना की बतौर फ़िल्मी हस्ती हम प्रसिद्ध हैं लेकिन यहाँ (बॉलीवुड) काम करने वाले इतने क्वालिफ़ाईड या ज़हीन नहीं होते की राजनैतिक बयान दे सकें."

शाहरुख़, सलमान, आमिर ढोंगी नहीं

इम्तियाज़ अली भले ही मायानगरी में काल्पनिकता से भरी फ़िल्मों को बनाने का काम करते हैं लेकिन उनका सबसे बड़ा डर है की वो कपटी या ढोंगी ना बन जाएं.

वो कहते हैं, "आमतौर पर लोग समझते हैं कि यहां लोग फ़ेक हैं, ढोंगी हैं. लेकिन मुझे झूठ से डर लगता है और मैं हर रोज़ डरता हूं कि कहीं मैं ढोगी ना बन जाऊं."

वो बात को आगे बढ़ाते हुए कहते हैं, "लोग यहां अक्सर दूसरों से समय न मिलता न देख उनके बारे में कोई भी धारणा बना लेते हैं, लेकिन मैंने देखा है कि जो व्यक्ति जितना सफल होता है वो ढोंगी नहीं व्यस्त हो जाता है.

तीनों ख़ानों का उदाहरण देते हुए वे कहते हैं, "शाहरुख़, सलमान और आमिर असल में ढोंगी नहीं पर उनके पास वक़्त की कमी होती है इसलिए वो हज़ारों लोगों से नहीं मिल पाते और इसलिए उन्हें कई बार मुलाक़ात टालनी पड़ती है जिसे लोग भाव खाना समझ लेते हैं."

महिलाएं और फ़िल्म इंडस्ट्री

इमेज कॉपीरइट spice

"हाईवे" जैसी महिला प्रधान फ़िल्म बनाने वाले इम्तियाज़ मानते है कि हिंदी फ़िल्म इंडस्ट्री पुरूष प्रधान है.

वो कहते हैं, "इंडस्ट्री में कैमरा के पीछे महिलाएं कम है क्योंकि फ़िल्म इंडस्ट्री बड़ी ही नॉन ग्लैमरस जगह है जहां शारीरिक काम बहुत करना पड़ता है और काम का समय अजीब होता है."

उदाहरण देते हुए वे कहते हैं, "मैं एक निर्देशक होने के बावजूद फ़िल्मों की शूटिंग के दौरान सड़कों पर रातें काट चुका हूं और कई बार कुछ महिलाओं के लिए इस तरह की चुनौतियाँ बेहद मुश्किल हो जाती है."

लेकिन फ़िल्मी दुनिया की तस्वीर बदल रही है और इसका हवाला देते हुए इम्तियाज़ कहते हैं, "बेशक समाज हीरो प्रधान है लेकिन आज हालात बेहतर हुए हैं और मेरी कई फ़िल्मों में अभिनेत्रियों को हीरो जितने और एकाध बार हीरो से ज़्यादा पैसे भी मिले हैं."

लेकिन हीरो से ज़्यादा पैसा लेने वाली वो कौन सी अभिनेत्री थीं इस बात पर वो मुस्कुरा कर कह देते हैं बस अगली बार के लिए भी कुछ छोड़िए, क्या सब राज़ आज ही खुलवा लेंगे?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार