'रॉकी' एक बार फिर से आपके सामने

इमेज कॉपीरइट warner brothers

फ़िल्म - क्रीड

रेटिंग - ***

कई लोग इस बात को समझना चाह रहे हैं कि यह फ़िल्म 80 के दशक की मशहूर हॉलीवुड फ़िल्म फ़्रेंचाईज़ी 'रॉकी' का सीक्वल कैसे है.

सवाल जायज़ है क्योंकि अभी तक बनी 'रॉकी' सीरीज़ की सभी फ़िल्मों में मुख्य भूमिका अभिनेता सिलवेस्टर स्टैलोन ने निभाई है और फ़िल्म के नाम में भी रॉकी का नाम नदारद है, वर्ना यह फ़िल्म रॉकी -7 कहलाती.

इमेज कॉपीरइट united artist

लेकिन रॉकी फ़िल्मों के मुख्य अभिनेता और निर्माता सिलवेस्टर स्टैलोन ने बड़ी समझदारी से अपनी 40 साल पुरानी इस फ़्रेंचाइज़ी को ज़िंदा रखने के लिए रॉकी की फ़्रेंचाइज़ी में एक नया अध्याय जोड़ दिया है.

अब यह सीरीज़ केवल एक बाएं हाथ के मुक्केबाज़ रॉकी बेलबोआ की कहानी न होकर बॉक्सिंग की कहानी बन गई है.

यह फ़िल्म रॉकी के पहले प्रतिद्वंद्वी रहे अपोलो क्रीड के बेटे अडोनिस पर बनी है. अडोनिस अब एक सफ़ल बिज़नेसमैन का जीवन जी रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट united artist

बॉक्सिंग के दौरान एक दुर्घटना में पिता की मौत के बाद से अडोनिस की मां ने उसे रिंग से दूर रखा है, लेकिन अडोनिस के दिल में बॉक्सर बनने का ही सपना है.

इसलिए एक दिन सभी बेड़ियों को तोड़कर अडोनिस बॉक्सिंग को अपना लेता है. अडोनिस ने अपना कोच रॉकी को ही चुना है जिन्होंने पहली बार उसके पिता को हराया था.

रॉकी सीरीज़ की अंतिम फ़िल्म साल 2006 में आई थी. इस फ़िल्म में रॉकी ने रील लाइफ़ में बॉक्सिंग से रिटायरमेंट ले लिया था.

इमेज कॉपीरइट millenium films

उसके बाद से रियल लाइफ़ में सिलवेस्टर स्टैलोन ने अपना ध्यान अपनी दूसरी फ़िल्म सीरीज़ 'एक्सपेंडेबल्स' पर लगा लिया था.

लेकिन रॉकी सीरीज़ के अन्य निर्माता इस सीरीज़ को यूं ही ख़त्म नहीं करना चाहते थे और ऐसे में रॉकी के लिए किसी और क़िरदार की तलाश शुरु हो गई.

फ़िल्म का सबसे जानदार पहलू है सिलवेस्टर की वापसी और निर्देशक रियान कूग़लर ने इस बात का पूरा ध्यान रखा है कि इस फ़िल्म के साथ रॉकी बेलबोआ के क़िरदार की विदाई की तैयारी शुरु हो जाए.

इतना तय है कि फ़िल्म की अगली कड़ी के साथ ही रॉकी का किरदार ख़त्म कर दिया जाएगा और इसी वजह से यह फ़िल्म बेहद चर्चित है, क्योंकि अमरीका में रॉकी बेलबोआ को असल ज़िंदगी के क़िरदार जैसा ही समझा जाता है.

इमेज कॉपीरइट Warner brothers

लेकिन इस फ़िल्म में आपको अभी तक की रॉकी फ़िल्मों की तरह ज़बर्दस्त एक्शन देखने को नहीं मिलेगा.

इस फ़िल्म में पुरानी फ़िल्मों से भी कुछ फ़ुटेज ली गई है, जो इस फ़िल्म को सच के बेहद क़रीब लाती है. ऐसा लगता है जैसे आप किसी डॉक्यूमेंट्री को देख रहे हैं और हां कुछ लोग शायद इसे देखकर फ़िल्म 'मैरी कॉम' को भी याद करें.

इस फ़िल्म पर आधारित मोबाइल गेम 'क्रीड' पहले से ही काफ़ी लोकप्रिय है और फ़िल्म के भारत में रिलीज़ होने के बाद गेम के डाउनलोड बढ़ने की उम्मीद है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार