अब रिज़्यूमे टाइप नहीं, रिकॉर्ड करके भेजिए

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

फ़िल्मों या टेलीविज़न सीरियल्स में रोल पाने के लिए उम्मीदवारों को कैमरे के सामने ऑडिशन देते तो देखा गया है लेकिन आजकल कॉरपोरेट जगत में भी उम्मीदवारों से वीडियो रिज़्यूमे मंगवाने का चलन बढ़ रहा है.

मुंबई की एचआर कंपनी 'मौरफ़िस कंसल्टेन्सी' के मालिक कैलाश साहनी कहते हैं, "वीडियो रिज़्यूमे पर जो ज़ोर दिया जा रहा है उसके कई कारण हैं."

इमेज कॉपीरइट Ayush Deshpande

वो कहते हैं, "पहली तो ये कि उम्मीदवार को प्रथम चरण के इंटरव्यू के लिए ख़ुद बुलाने की ज़रूरत नहीं होती है, इससे समय की बचत होती है."

साथ ही कंपनी के अहम अधिकारियों को शुरूआत दौर में सभी उम्मीदवारों से व्यक्तिगत तौर पर नहीं मिलना पड़ता है.

मुंबई की ही कंपनी 'इंटरव्यू एअर' के संचालक रोहित तनेजा बताते हैं, "हमारे साथ जुड़े 3000 में से 2500 से भी ज़्यादा उम्मीदवारों ने अपना वीडियो रिज़्यूमे तैयार कर लिया है."

रोहित कहते हैं कि कई कंपनियां वीडियो 'सीवी' के लिए उम्मीद्वारों को सवाल भेजती है और समय सीमा भी तय कर देती है ताकि जो वीडियो जाए वो बिना मतलब के लंबा चौड़ा न हो.

वीडियो 'सीवी' के फ़ायदे बताते हुए कैलाश कहते हैं, "उम्मीदवारों को पूछे गए सवालों का जवाब देने के लिए मनचाहा समय मिल जाता है. अगर किसी प्रकार की चूक हो भी जाए तो वे उसे दोबारा रिकॉर्ड कर सकते हैं."

रोहित बताते है, "उम्मीदवार को इंटरव्यू के लिए आने जाने में जो ख़र्च होता है उसकी बचत हो जाती है."

एक अच्छा और असरदार वीडियो रिज़्यूमे कैसा होना चाहिए?

कैलाश कहते हैं, "आप जिस तरह एक व्यक्तिगत इंटरव्यू के लिए अपने आप को प्रदर्शित करते हैं, ठीक उसी तरह वीडियो इंटरव्यू के लिए भी ख़ुद को तैयार करें."

उनका मानना हैं, "उम्मीदवारों को अपने सबसे बड़े अनुभवों को सबसे पहले बताना चाहिए, इसके अलावा अपने वीडियो की लंबाई 40 से 60 सेकेंड के बीच रखें."

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

एक बहुराष्ट्रीय कंपनी के मानव संसाधन विभाग के अधिकारी बीबीसी से कहते हैं, "वीडियो रिज़्यूमे शुरूआती प्रभाव तैयार करने में मददगार हो सकता इसलिए ज़रुरी है की आप वीडियो में उत्सुक दिखें."

लेकिन मुंबई में काम कर रही 23 वर्षीय एंजल मुदालिअर कहती हैं, आज भी एक असरदार रिज़्यूमे कैसे बनाएं इस पर ठीक तरह से कोई मार्गदर्शन नहीं.

वो कहती हैं, "मुझे इंटरव्यू के लिए बुलावा वीडियो रिज़्यूमे भेजने के बाद ही आया था लेकिन ये आपको सिर्फ अगले दौर तक पहुंचने में मदद कर सकता है. नौकरी आपको प्रतिभा और कौशल से ही मिलेगी."

इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

वीडियो रिज़्यूमे का फायदा सिर्फ नौकरी की तलाश कर रहे उम्मीद्वारों को ही नहीं बल्कि नौकरी का अवसर प्रदान कर रही कंपनी को भी होता है.

विशेषज्ञों का मानना है कि हालांकि ये ट्रेंड छोटे शहरों में नहीं पहुंचा है लेकिन इंफ़ार्मेशन ऐज में शायद उसमें बहुत वक़्त नहीं लगेगा!

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार