'वज़न से नहीं टैलेंंट से मिलती है फ़िल्में'

एक साल से पर्दे से ग़ायब परिणीति ने वज़न घटाने से हुए अपने कायाकल्प से पूरे देश को हैरान कर दिया.

एक उत्पाद के लॉन्च पर जब उनसे पूछा गया कि क्या उनका वज़न फ़िल्म मिलने में रुकावट साबित हो रहा था तो उन्होंने टका-सा-जवाब देते हुए कहा, "फिल्में वज़न से नहीं, टैलेंट से मिलतीं हैं."

2012 में आई 'लेडीज़ वर्सस रिकी बहल' से अपने करियर की शुरुआत करने वाली परिणीति चोपड़ा ने इंडस्ट्री में अपने अभिनय का लोहा तो मनवा लिया पर अपने वज़न को लेकर कई दंश सहें.

इमेज कॉपीरइट YASHRAJ FILMS

फिर 2014 में आई उनकी दोनों ही फिल्में "दावत-ए-इश्क़" और "किल-दिल" बॉक्स-ऑफिस पर कुछ खास कमाल नहीं दिखा पाई.

11 महीने के लंबे अंतराल के बाद परिणीति ट्विटर पर लोगों के सामने अपने बदले हुए रूप के साथ वापिस आई.

हालांकि परिणीति ने माना यह रूप हासिल करने के लिए उन्हें बड़ी मशक्कत करनी पड़ी, वे कहती हैं, "जिन्हें खाने-पीने का बहुत शौक़ हो, उनके लिए बेशक यह आसान नहीं है. शुरुआती दिनों में मैं तो सारा दिन खाने के बारे में सोचती रहती थी."

इमेज कॉपीरइट bbc

उन्होंने खुद में आए बदलाव के बारे में कहा, "यक़ीनन अब पहले के मुक़ाबले अपने ख़ान-पान को लेकर अधिक सचेत रहती हूं. साथ ही खुद को पहले के मुक़ाबले अधिक स्वस्थ महसूस करती हूं."

परिणीति ने उनके धूम-4 में हृतिक के साथ होने की अटकलों का जवाब देते हुए कहा, "मैं खुश हूं कि मुझे एक ऐसी फ़िल्म मिली है जिसका मुझे इंतज़ार था."

उन्होंने आगे कहा, "उम्मीद है हम औपचारिक रूप से इस फ़िल्म की घोषणा अगले सप्ताह कर देंगे."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉयड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार