ब्रांड एंबेस्डर आमिर या महज़ एक समझौता?

  • 19 फरवरी 2016

'अतुल्य भारत' के ब्रांड एंबेसेडर पद से 'हटाए गए' आमिर खान को महाराष्ट्र सरकार ने 'जल संरक्षण' के काम में मदद का काम दिया है.

आमिर फ़िल्म 'पीके' में हिंदुओं की भावनाओं को कथित तौर पर ठेस पहुंचाने और असहिष्णुता पर दिए बयान के बाद विवादों में आ गए थे. और अतुल्य भारत से उनके जाने को सज़ा के तौर पर देखा जा रहा था.

हालांकि सरकार ने कहा था कि उसका क़रार कंपनी से ख़त्म हो गया और आमिर का क़रार सीधा सरकार से नहीं बल्कि कंपनी से था.

नए काम से समझा जा रहा है कि आमिर और सरकार के बीच बना तनाव ख़त्म हो गया है.

आमिर से पहले शाहरुख़ ख़ान भी असहिष्णुता पर दिए बयान देकर अपनी फ़िल्म 'दिलवाले' का विरोध झेल चुके हैं.

इस पूरे मामले को आमिर की आनेवाली फ़िल्म दंगल के रीलीज़ से जोड़कर भी देखा जा रहा है.

आमिर ने बुधवार को मुंबई में कहा कि उनका एनजीओ 'पानी फ़ाउंडेशन' महाराष्ट्र सरकार के साथ सूखाग्रस्त इलाकों में काम करेगी और लोगों को पानी बचाने की सीख़ देगी.

इमेज कॉपीरइट Star Plus

हालांकि पहले यह क़यास लगाए जा रहे थे कि आमिर इस कैंपेन के ब्रांड एंबेसेडर होंगे. लेकिन आमिर ने इसमें अपनी भूमिका एक सहयोगी की बताई है.

क्या ये एक तरह का समझौता है इस सवाल पर आमिर लगातार बचते रहे. हालांकि मुख्यमंत्री देंवेद्र फ़डनवीस उनके बचाव में उतरे.

फ़डनवीस के कहा, "ये एक नई शुरुआत है और कुछ शामों में पुरानी बातों को नहीं उठाना चाहिए."

इमेज कॉपीरइट Star Plus

आमिर ख़ान ने बीते साल भी महाराष्ट्र सरकार को इस योजना के लिए 11 लाख़ रुपए का योगदान दिया था.

आमिर ने बताया, "नई योजना को 'सत्यमेव जयते वॉटर कप' के ज़रिए लोगों को जल संरक्षण करने के लिए प्रेरित किया जाएगा और सूखे से निपटने की कोशिश की जाएगी."

माना जा रहा है कि आमिर ने नए सीज़न के लिए अभी से तैयारी कर रहे हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार