'बोलने की आज़ादी का एक अर्थ है चुप रहना'

अपनी फ़िल्म 'फ़ैन' के ट्रेलर लाँच पर पहुंचे अभिनेता शाहरुख़ खान का कहना है कि अभिव्यक्ति की आज़ादी का मतलब 'चुप्पी' साधना भी होता है, तो आगे से मैं 'चुप' रहूंगा.

साल 2015 में रोहित शेट्टी के निर्देशन में बनी फ़िल्म 'दिलवाले' के दौरान अभिव्यक्ति की आज़ादी पर दिए शाहरुख़ के एक बयान पर काफ़ी बवाल मचा था.

फ़िल्म पंडितों का कहना था कि इस हंगामे की वजह से ही फ़िल्म को बॉक्स ऑफ़िस पर नुक़सान हुआ.

जब शाहरुख़ से उनके उस बयान के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, ''फ्रीडम ऑफ़ स्पीच को लोग अपनी तरह से ले सकते हैं, लेकिन मेरे हिसाब से इसका एक मतलब 'चुप' होने का अधिकार भी है, इसलिए अब मैं चुप ही रहूंगा.''

यशराज फ़िल्म्स के बैनर तले मनीष शर्मा के निर्देशन में बनी फ़िल्म 'फ़ैन' का हाल ही में ट्रेलर लॉन्च किया गया जिसकी कहानी एक अभिनेता और उसके उसके सबसे बड़े फ़ैन के रिश्ते पर आधारित है.

इस मौक़े पर शाहरुख़ ने कहा कि यह 'डबल रोल' की नहीं 'लुक अलाइक' की कहानी है.

अपने जीवन में लुक अलाइक से जुड़ा एक क़िस्सा साझा करते हुए वो बोले,''मैं जब छोटा था, तो मुझे लगता था कि मैं कुमार गौरव की तरह लगता हूं. जब फ़िल्म 'लव स्टोरी' रिलीज़ हुई थी तो लोग मुझे रेड चेक शर्ट में देख कर कुमार गौरव बोलते थे, मुझे बहुत अच्छा लगता था.''

उन्होंने आगे कहा,"जब मैं पहली बार मुंबई आया तो सबसे पहले कुमार गौरव से मिलना चाहता था. फिर अब जब मैं पचास साल का हुआ हुं, तो लगता है कि मैं अपने पिता की तरह दिखता हूं और फिर वो दौर भी आएगा, जब मैं ख़ुद की तरह ही दिखूंगा."

एक ही तरह का अभिनय करने के आरोपों का जवाब भी शाहरुख़ ने दिया.

शाहरुख़ ने कहा,"पच्चीस सालों से फ़िल्म क्रिटिक्स बोलते आ रहे हैं की मैं एक ही तरह की एक्टिंग करता हूं, लेकिन मुझे 'शाहरूख़' होना पसंद है."

शाहरुख़ ने चुटकी लेते हुए कहा, "हम एक्टर्स बड़े बेवकूफ़ होते हैं लाइनें याद ही नहीं रहती है और मैं तो ख़ुद को कम टैलेंटेड मानता हूं क्योंकि मैं गा नहीं सकता, सिर्फ़ डायलॉग ही बोल सकता हूं."

अपनी इस फ़िल्म के बारे में शाहरुख़ ने कहा कि 25 सालों में शायद यह पहली फ़िल्म है, जिसमें मैंने कोई सिगनेचर स्टेप नहीं किया है. इसमें कोई गाना नहीं है, एक भी आइटम नंबर नहीं डाला गया है. यह असल में एक अलग क़िस्म की फ़िल्म है.

शाहरुख़ की इस फ़िल्म का प्रमोशन पिछले साल से ही चल रहा है और उनके अच्छे दोस्त अभिनेता सलमान ने भी इस फ़िल्म का प्रमोशन किया है. दिलवाले की असफलता के बाद इस फ़िल्म से शाहरुख को कई उम्मीदें हैं और इन उम्मीदों को पूरा करने के लिए शाहरुख़ का सहारा उनके फ़ैन्स ही हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार