औरत को 'द ब्यूटीफ़ुल', मर्द को ‘द सक्सेसफुल'?

  • 8 मार्च 2016
इमेज कॉपीरइट Hoture Images

एक एक्टर होने के नाते मैने कई बार महसूस किया है कि लोग सूरत, चेहरे-मोहरे, वज़न, पहनावे के आधार पर औरतों के बारे में अलग सी राय बना लेते हैं और पुरुषों के मुकाबले औरतों को उनके लुक के हिसाब से ज़्यादा परखा जाता है.

इसकी एक छोटी सी मिसाल देती हूँ. जब हम किसी फंक्शन या पार्टी में जाते हैं तो औरत को अकसर पार्टी में सबके सामने ‘द ब्यूटीफुल …..’ के तौर पर पेश किया जाता है. लेकिन जब उसी पार्टी में किसी पुरुष का परिचय दिया जाता है तो उसे ‘द सक्सेसफुल….’ के तौर पर पेश किया जाता है.

अगर आप फ़िल्मों में काम करते हैं, तब तो ये बात और भी मायने रखने लगती है कि आप दिखती कैसी हैं, बजाए इसके कि आपको एक्टिंग की एबीसी आती है या नहीं.

मेरा एक ही सवाल है - मैं अपनी कामकाजी ज़िंदगी में जो करना चाहती हूँ, उसका मेरी शक्ल-सूरत, वज़न से क्या लेना देना है?

मेरे शरीर की बनावट इंडियन है, भारतीय होने के नाते ये बहुत स्वाभाविक बात है. मैं हॉलीवुड नहीं बल्कि भारतीय फिल्मों में काम कर रही हूं तो इंडियन बॉडी होना तो फ़ायदे की बात है. ये मेरी कमी कैसे हो गई?

इमेज कॉपीरइट monica bhattacharya Pr

लोगों को मुझे इसी शक्लो-सूरत, वज़न और लुक में ही फिल्मों में कास्ट करना होगा. आजकल हम लोग सोशल मीडिया पर बहुत एक्टिव रहते हैं, पल पल पर तस्वीरें अपलोड करते हैं, इसलिए आप कैसे दिखते हैं इसे लेकर एक अलग सा दवाब रहने लगा है.

मेरे साथ कई बार ऐसा हुआ है जब लोगों ने मेरे पहनावे और लुक के बारे में मुझे टोका है. कई लोग मुझसे सीधे सीधे आकर कहते हैं कि मेरा वज़न ज्यादा है.

मुझे पहले पहल बहुत ख़राब भी लगता था. लेकिन फिर धीरे धीरे मुझे ये महसूस होने लगा कि अगर आप दूसरों की सुनेंगे और उसके मुताबिक़ ढलने की कोशिश करेंगे तो ज़िंदगी इसी में निकल जाएगी.

कई बार लोग मुझसे पूछते हैं कि मैं कैसी दिखती हूँ या मेरा वज़न कितना है क्या इसका असर मुझे फ़िल्मों में मिलने वाले रोल पर भी पड़ता है?

मेरा मानना है कि अगर आपने अपने दिमाग़ में इसे लेकर कोई धारणा बना रखी है तो ये बिल्कुल मेरे करियर के लिए रुकावट है. वरना आपको अपने रूल्स ख़ुद तय करने चाहिए.

मैं परफैक्ट नहीं हूं, लेकिन मैंने कभी नहीं सोचा कि कोई सर्जरी करा लूं.

कोई भी औरत कैसी दिखती है ये उसकी शख़्सियत या पर्सनेलिटी का एक हिस्सा हो सकता है लेकिन उसकी पर्सनेलिटी उसकी लुक, वज़न या सूरत की मोहताज नहीं.

(बीबीसी संवाददाता वंदना से बातचीत पर आधारित)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार