एक बार फिर खिला 'चड्ढी पहनकर' फूल

  • 24 मार्च 2016
इमेज कॉपीरइट UniversalPR

फ़िल्मकार और संगीतकार विशाल भरद्वाज और गीतकार गुलज़ार ने 23 बाद फिर रचा 'जंगल बुक' के टाइटल ट्रेक 'जंगल जंगल बात चली है पता चला है...' को.

8 अप्रैल 2016 को हिंदी में रिलीज़ हो रही हॉलीवुड फ़िल्म 'द जंगल बुक' में एक बार फिर नब्बे के दशक में आने वाले धारावाहिक 'जंगल बुक' का गाना 'जंगल जंगल बात चली है..' सुनाई देगा, लेकिन इसमें कुछ बदलाव किया गया है.

आज ही इस टाइटल ट्रेक को रिलीज़ किया गया.

इमेज कॉपीरइट UniversalPR

आपको बता दें कि रुडयार्ड किपलिंग की किताब 'द जंगल बुक' पर आधारित धारावाहिक 'जंगल बुक' 90 के दशक में बहुत मशहूर हूआ था.

इसके टाइटल ट्रेक को गुलज़ार ने लिखा था और विशाल भरद्वाज ने इसे संगीत दिया था. तक़रीबन 23 साल पहले बने इस गाने ने विशाल भरद्वाज को पहचान दिलाई थी.

हालांकि, विशाल इस तथ्य को अलग तरीक़े से बताते हैं. वो कहते हैं, 'जंगल जंगल बात चली है, पता चला है' मेरा पहला सफल गाना नहीं था, बल्कि यह पहला मौक़ा था, जब मैंने गुलज़ार साहब के साथ काम किया था.'

विशाल ने इस गाने के बनने के दौरान की यादों को साझा करते हुए कहा कि जब हम यह गाना तैयार कर रहे थे, तो हमने इसके लिए बहुत समय दिया था.

गुलज़ार और विशाल को इस गाने के इतना सफल होने की उम्मीद नहीं थी. विशाल बताते हैं कि जब हम यह गाना बना रहे थे, तब इसके इतना सफल होने का अंदाज़ा नहीं था. हम तो यह भी नहीं जानते थे कि क्या रहे हैं.

एक बार फिर से इस गाने को बनाने के बारे में विशाल ने कहा कि 23 साल के बाद इस गाने पर फिर से बात होना बहुत ही अच्छा अनुभव है.

गुलजार साहब के गीत यादगार हैं, वो जब कभी भी बच्चों के लिए लिखते हैं, तो कमाल लिखते हैं.

इमेज कॉपीरइट universal pr

विशाल गुलज़ार को सबसे पुराना बच्चा क़रार देते हुए कहते हैं, "उनकी उम्र को आंका नहीं जा सकता, उनके गीतों में बचपन की सादगी है और दुनिया के लिए कुछ नया भी है."

वे मानते हैं कि ऐसे गीतकार के साथ काम करना कंपोज़र के लिए बेहतरीन अनुभव होता है.

इमेज कॉपीरइट universal pr

'द जंगल बुक' अमेरिका से पहले भारत में रिलीज़ हो रही है इसके लिए ख़ास तैयारियां भी की जा रही हैं. अलग से ट्रेलर से लेकर गाना सब कुछ तैयार किया जा रहा है.

जॉन फेवरेयू के निर्देशन में बनी फ़िल्म में 'मोगली' का किरदार भारतीय मूल के नील सेठी निभा रहे हैं. नील इस फ़िल्म के प्रमोशन के लिए भारत भी आ रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट UniversalPR

12 वर्षीय नील भारत आने की उत्सुकता जाहिर करते हुए कहते हैं, "यह मेरे नाना का घर है, उनसे यहां के जंगल के कई क़िस्से सुन रखे हैं और अब मैं इन्हें खुद देख पाऊंगा."

इस फ़िल्म को हिंदी में प्रियंका चोपड़ा, इरफ़ान खान, नाना पाटेकर, ओम पूरी और अभिनेत्री शेफाली शाह ने डब किया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार