अपने 'सबसे बड़े फ़ैन' से मिले शाहरुख़

  • 14 अप्रैल 2016

बॉलीवुड के सुपरस्टार शाहरुख़ ख़ान अपनी नई फ़िल्म 'फ़ैन' के लिए लंदन के मशहूर मैडम तुसाद म्यूज़ियम में थे.

मैडम तुसाद में शाहरुख ने 'फ़ैन' फ़िल्म में निभाए किरदार 'गौरव' के मोम के पुतले का अनावरण किया.

बिल्कुल ना सोचे कि शाहरुख़ ख़ान बनना है

'फ़ैन' भी दूसरी भारतीय फ़िल्मों की तरह लंदन में बन रही है और यहां की मशहूर जगहें इसकी पृष्ठभूमि में हैं.

लंदन के ट्रैफ़ल्गर स्क्वेयर, टावर ब्रिज और लंदन आई का फ़िल्मांकन भारत की फ़िल्मों में कई बार किया गया है और शाहरुख़ के लिए लंदन उनका दूसरा घर है.

इमेज कॉपीरइट YRF

शाहरुख़ कहते हैं, ''लंदन दुनिया भर के मेरे पसंदीदा शहरों में है. मुझे यहां का मौसम बहुत प्यारा है. मैं यहां आने को हमेशा तैयार रहता हूँ. हमारी प्रोडक्शन टीम के लिए भी यह शहर दोस्ताना है. यहां मुझे भारत और उसके पड़ोसी देशों के बहुत से लोग मिलते हैं. यहां हमारे पास दुनिया का सर्वश्रेष्ठ है. यही नहीं, यहां की तकनीक और लोग दोनों वर्ल्ड क्लास हैं.''

शाहरुख़ का मानना है कि इंग्लैंड और भारत के बीच की कड़ी के कारण लंदन बॉलीवुड फ़िल्मकारों को चुंबक की तरह खींचता है.

वे कहते हैं, ''यहां लोग हैं, यहां परिवार है, लोग इन फ़िल्मों को देखकर कहेंगे, देखो, ये तो मेरी फ़ैमिली जैसा है.''

पर्यटन क्षेत्र के प्रमुखों की मानें तो भारतीय फ़िल्म उद्योग लंदन की अर्थव्यवस्था को लाखों पाउंड का फ़ायदा पहुँचाती है. खास बात यह कि मैडम तुसाद को पहली बार फ़िल्म में दिखाया गया है.

शाहरुख़ ख़ान को पैसे की कमी नहीं, वे दुनिया में सर्वाधिक पैसा पाने वाले अभिनेताओं में हैं. 80 से अधिक फ़िल्मों में उनकी रोमेंटिक भूमिका रही है. लेकिन 'फ़ैन' बिलकुल हटकर है.

इमेज कॉपीरइट YRF

क्या यह फ़िल्म किसी डर और बेईमानी के बारे में है?

''दरअसल यह न तो किसी बुराई के बारे में है न यह डरावनी है. ये फ़िल्म एक ऐसे नौजवान की कहानी है जो फ़िल्मी सितारे को पसंद करता है. जब आप जवान होते हैं, तो आपको अच्छे-बुरे के बीच का फ़र्क समझ नहीं आता. पूरी फ़िल्म में भावनात्मक रोमांच हावी है.''

फ़िल्म में शाहरुख़ ख़ान दोहरी भूमिका में हैं. वे इसमें स्टार भी हैं और उसके प्रशंसक भी. तो यह आइडिया कैसे आया?

शाहरुख कहते हैं, ''यह फ़िल्म की खासियत है. आइडिया यह था कि एक ही अभिनेता 25 साल के युवक और 50 साल के उम्रदराज़ का किरदार निभाए. वह ऐसा अभिनेता हो जिसके शरीर के हावभाव पूरी तरह से सितारे से मिलते-जुलते हों ताकि फ़िल्म में यह न बताना पड़े कि वह एक्टर है.''

'फ़ैन' ऐसे व्यक्ति के बारे में है, जिसे प्रशंसकों की कमी नहीं. सोशल मीडिया पर शाहरुख़ के चाहने वालों की तादाद क़रीब दो करोड़ है.

वे जानते हैं कि डिजिटल युग में लोगों की आंखों में कैसे बने रहें.

''जहां तक लोगों के बीच पहुँच का मामला है, आज हम सब एक दुनिया में रहते हैं. न कोई बड़ा है, न छोटा. लोग आपको आपके काम की वजह से पसंद करते हैं. सोशल मीडिया ने पूरी दुनिया को एक जैसा कर दिया है. सोशल मीडिया पर हमें चीजों को हल्के-फुल्के ढंग से लेना चाहिए.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार