तमाशों में भी होती थी एडल्ट कॉमेडी: रितेश

'मस्ती', 'क्या कूल हैं हम', 'ग्रैंड मस्ती' सरीख़ी फ़िल्मों का हिस्सा रह चुके अभिनेता रितेश देशमुख का कहना हैं कि एडल्ट कॉमेडी ऐसी शैली है जो बहुत पहले से चली आ रही है.

इमेज कॉपीरइट Hoture Images

37 वर्षीय अभिनेता ने अपने 13 साल के करियर में तक़रीबन 34 फ़िल्में की हैं जिनमें अधिकतर कॉमेडी फिल्में हैं और इन दिनों वो अपनी आगामी फ़िल्म 'हाउसफ़ुल 3' के प्रमोशन में व्यस्त हैं.

कई एडल्ट कॉमेडी फ़िल्मों का हिस्सा रह चुके रितेश 'एडल्ट कॉमेडी' फ़िल्म्स के बारे में मानते हैं, "नुक्कड़ पर खेले जाने वाले तमाशों में भी ये होता था.''

अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए कहते हैं, ''यह बस एक हास्य का माध्यम है. फ़िल्मों में डबल मीनिंग जोक्स तो रहते ही हैं, लेकिन जब ये जोक्स सिरीज में बन जाते हैं, तो एडल्ट कॉमेडी फ़िल्म कहलाती है.''

इमेज कॉपीरइट GRAND MASTI

रितेश का मानना है कि हॉलीवुड फ़िल्में बॉलीवुड फ़िल्मों के लिए बड़ा ख़तरा हैं. वो कहते हैं,''अगर हॉलीवुड फ़िल्में क्षेत्रीय भाषा में डब होकर रिलीज़ होती हैं, तो क्षेत्रीय और हिंदी फ़िल्मों के लिए स्क्रीन की कमी हो सकती है. हमें भारत की फ़िल्म इंडस्ट्री को बचाने की ज़रूरत है."

इमेज कॉपीरइट maruti international

अपनी आगामी योजना के बारे में बताते हुए कहते हैं कि साल 2016 में हिंदी फ़िल्मों के बाद मैं मराठी में छत्रपति शिवजी महाराज पर बायोपिक बनाऊंगा.

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री विलासराव देशमुख के बेटे रितेश ख़ुद को जागरूक नागरिक बताते हैं लेकिन किसी मुद्दे पर कोई राय नहीं रखते हैं.

वहीं वर्तमान सरकार के दो साल पूरे करने पर उन्हें शुभकामनाएं भी देते हैं और कहते हैं, ''एक सरकार को पूरे 5 साल मिलना चाहिए और मोदी सरकार तो फिर भारी बहुमत से आई है.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार