विद्या मराठी फ़िल्में करना चाहती हैं

अभिनेत्री विद्या बालन का कहना है कि वो मराठी फ़िल्म में भी काम करना चाहती हैं.

इन दिनों रिभु दासगुप्ता की फ़िल्म 'तीन' और सुजॉय घोष की 'कहानी 2' में व्यस्त विद्या बालन मराठी फ़िल्म में मेहमान कलाकार की भूमिका में नज़र आने वाली हैं.

इमेज कॉपीरइट Universal PR

दरअसल, बीते ज़माने के अभिनेता और निर्देशक भगवान दादा पर मराठी में एक बायोपिक बनाई गई है. 'एक अलबेला' नाम की इस फ़िल्म में विद्या ने अदाकारा गीता बाली का किरदार निभाया है.

हालांकि, विद्या फ़िल्म में मेहमान भूमिका में ही हैं, लेकिन गीता बाली के किरदार को सजीव करने को वो अपनी उपलब्धि मानती हैं.

हाल ही में फ़िल्म 'एक अलबेला' का गीत 'शोला जो भड़के' लॉन्च किया गया. इस मौक़े पर विद्या ने कहा, ''मैं मराठी फ़िल्म करना चाहती हूं, क्योंकि मैं मुंबई से हूं. मेरा जन्म यहीं हुआ, मैं यहीं पली-बढ़ी हूं, मैं यहां की संस्कृति को पहचानती हूं.''

वो 'एक अलबेला' को मराठी फ़िल्म में अपनी बेहतरीन शुरुआत बताती हैं, ''मेरे लिए इससे बेहतर मराठी फ़िल्म कोई और नहीं हो सकती थी. मैं और भी मराठी फ़िल्मों की पटकथा पढ़ रही हूं.''

वहीं अपने किरदार के बारे में उन्होंने कहा, ''जब मुझे इस फ़िल्म का प्रस्ताव मिला, तो उस वक्त मैं काफ़ी घबरा गई थी. मैं गीता बाली की तरह नहीं दिखती हूं, लेकिन मैंने उनकी तरह दिखने की पूरी कोशिश की है.''

विद्या से जब अगले बायोपिक के बारे में पूछ गया, तो वो बोलीं, '' 'डर्टी पिक्चर' के बाद मुझे कई बायोपिक के ऑफर मिले, लेकिन मैंने मना कर दिया. हालांकि, उनमें से कुछ तो बहुत बड़ी हस्तियां थीं.''

'डर्टी पिक्चर' के किरदार और 'एक अलबेला' के किरदार की समानता करते हुए उन्होंने कहा कि जहां 'डर्टी पिक्चर' की 'सिल्क स्मिता' बनने के लिए मैंने अपनी कल्पना शक्ति का प्रयोग किया. वहीं 'एक अलबेला' में 'गीता बाली' के किरदार के लिए मैंने गीता बाली के कई वीडियो देखे.

शेखर सर्तेदल के निर्देशन में बनी 'एक अलबेला' में भगवन दादा की भूमिका मराठी अभिनेता मंगेश देसाई निभा रहे हैं.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार