सलमान की प्रेस कॉन्फ्रेंस में असल में क्या हुआ?

  • 22 जून 2016

महबूब स्टूडियो में मैं सलमान ख़ान के पास ही बैठी थी क्योंकि सभी कुर्सियां भर चुकी थीं. उनसे सवाल जवाब शुरू हुआ और सभी लोग एक-एक कर सलमान से अपने सवाल पूछने लगे.

तीसरे मिनट में ही मेरी बारी आ गई, मैंने सलमान से पूछा कि पहलवान की तरह ट्रेनिंग करने में आपको क्या-क्या मुश्किलें आईं, जिसके जवाब में सलमान बड़े ही हाव-भाव बनाते हुए बताने लगे कि वो कैसे मेहनत करते, पटकी खाते, दंड लगाते थे और यक़ीन मानिए कि वो बड़े ही मनोरंजक तरीके से यह सब बता रहे थे.

सुनिए क्या कहा था सलमान ने?

सभी को स्वाभाविक रुप से हंसी आ रही थी कि अचानक सलमान के मुंह से निकला कि वो किसी 'रेप विक्टिम' की तरह महसूस कर रहे थे.

यहां तक कि कहानी आप सभी ने सुनी होगी लेकिन असल कहानी इसके बाद होती है.

इमेज कॉपीरइट YRF films
Image caption फ़िल्म 'सुल्तान' में सलमान के साथ अनुष्का नज़र आएंगी

सोशल मीडिया, टीवी चैनलों के मुताबिक़ सलमान की इस बात पर सब हंसने लगे और फिर बात आई गई हो गई, लेकिन ये सच नहीं है.

सलमान की इस बात को सुनकर पहली कतार में बैठे लोग असहज हो गए, मैंने सलमान की ओर देखा तो सलमान भी बोलते-बोलते रुक गए, वो महसूस कर सकते थे कि वो कुछ ग़लत कह गए हैं, तुरंत बोले, “नहीं, मुझे यह नहीं कहना चाहिए था, मैं कहना चाह रहा था कि मैं चल नहीं पा रहा था."

सलमान ने अपने शब्द वापस लिए और इस दौरान पीछे वाली कतार के लोग जो अभी पिछली बात पर हंस रहे थे चुप नहीं हुए थे. सुनने वाले को ऐसा लगेगा कि लोग सलमान की 'रेप' वाली बात पर हंस रहे थे लेकिन 30 लोगों में से कौन कितनी देर तक हंसेगा यह तय नहीं किया जा सकता.

लेकिन यह मैं दावे से कह सकती हूं कि सलमान और उनके पास बैठे लोग उस वक़्त असहज और गंभीर हो गए थे.

हम इस बात को भूल गए क्योंकि सलमान अपने शब्द वापस ले चुके थे लेकिन अचानक रविवार देर रात एक मीडिया हाउस ने उस बयान को अपनी हेडलाइन बना दिया. सलमान को खींच लिया गया था और वो बुरे फंसे थे.

इमेज कॉपीरइट YRF films

सोमवार की सुबह आते आते हमें कई चैनलों और अख़बारों से फ़ोन आने लगे कि हम सामने आएँ और बताएँ कि सलमान ने कैसे बलात्कार जैसे घिनौने शब्द का मज़ाक में इस्तेमाल किया है, लेकिन मैं इससे सहमत नहीं थी.

सलमान ने ऐसा किसी सोच के तहत नहीं किया था. वो एक भारी भूल कर गए थे जिसकी ग़लती उन्होंने उसी वक़्त महसूस कर ली थी.

प्रिंट इंटरव्यू का एक नियम होता है कि अगर आर्टिस्ट यह कहे कि वो किसी बात को नहीं कहना चाहता या उसे यह नहीं कहना चाहिए था तो उस बात को लिया नहीं जाता लेकिन इस मामले में ऐसा नहीं हुआ.

सलमान ने जो कहा था वो मुझे बुरा लगा था, ख़ास तौर पर एक महिला होने के नाते, लेकिन एक ज़िम्मेदार पत्रकार होने के नाते मैं इससे इनकार नहीं कर सकती कि सलमान ने अपनी ग़लती मान ली थी कि उन्हें ऐसा नहीं कहना चाहिए था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार