BBCHindi.com
अँग्रेज़ी- दक्षिण एशिया
उर्दू
बंगाली
नेपाली
तमिल
 
बुधवार, 26 अक्तूबर, 2005 को 02:43 GMT तक के समाचार
 
मित्र को भेजें कहानी छापें
साहित्यकार निर्मल वर्मा का निधन
 
निर्मल वर्मा
निर्मल वर्मा ने भारतीय लेखन में नए आयाम जोड़े
हिंदी भाषा में आधुनिक सार्वभौमिक चेतना को शब्द देने वाले प्रख्यात साहित्यकार निर्मल वर्मा नहीं रहे.

फेफड़े की बीमारी से जूझने के बाद 76 वर्ष की अवस्था में दिल्ली में उनका निधन हो गया.

चेक गणराज्य और लंदन में लंबा समय गुज़ारने वाले निर्मल वर्मा ने यूरोपीय जीवन की विसंगतियों को समझा और उनकी बहुत ही बारीक मानवीय व्याख्या अपनी कहानियों में की.

जाने-माने कथाकार कमलेश्वर ने बीबीसी हिंदी से बातचीत में उनके निधन पर गहरा दुख व्यक्त करते हुए कहा निर्मल वर्मा "यूरोप में पूरब की आवाज़ की तरह रहे और उन्होंने हिंदी साहित्य में आधुनिकता का एक नया आयाम जोड़ा."

कहानियों और उपन्यासों के अलावा बेहतरीन यात्रा वृत्तांत लिखने वाले निर्मल वर्मा का जन्म 1929 में शिमला में हुआ था.

प्रमुख कृतियाँ
कहानी संग्रह--'परिंदे', 'कौवे और काला पानी', 'बीच बहस में', 'जलती झाड़ी'
उपन्यास--'रात का रिपोर्टर', 'एक चिथड़ा सुख', 'लाल टीन की छत', 'वे दिन'
यात्रा वृतांत--'धुंध से उठती धुन', 'चीड़ों पर चाँदनी'

उनके साथ 55 वर्षों के संबंधों को याद करते हुए कमलेश्वर ने कहा, "वे अपने साथ पहाड़ों का बहुत ही खूबसूरत अनुभव लेकर आए थे, उनकी कहानियों ने पचास और साठ के दशक में हिंदी साहित्य जगत में धूम मचा दी थी."

अपनी गंभीर, भावपूर्ण और अवसाद से भरी कहानियों के लिए जाने-जाने वाले निर्मल वर्मा को आधुनिक हिंदी कहानी के सबसे प्रतिष्ठित नामों में गिना जाता रहा है, उनके लेखन की शैली सबसे अलग और पूरी तरह निजी थी.

निर्मल वर्मा को भारत में साहित्य का शीर्ष सम्मान ज्ञानपीठ 1999 में दिया गया.

'रात का रिपोर्टर', 'एक चिथड़ा सुख', 'लाल टीन की छत' और 'वे दिन' उनके बहुचर्चित उपन्यास हैं. उनका अंतिम उपन्यास 1990 में प्रकाशित हुआ था--अंतिम अरण्य.

उनकी एक सौ से अधिक कहानियाँ कई संग्रहों में प्रकाशित हुई हैं जिनमें 'परिंदे', 'कौवे और काला पानी', 'बीच बहस में', 'जलती झाड़ी' आदि प्रमुख हैं.

'धुंध से उठती धुन' और 'चीड़ों पर चाँदनी' उनके यात्रा वृतांत हैं जिन्होंने लेखन की इस विधा को नए मायने दिए हैं.

 
 
इससे जुड़ी ख़बरें
सुर्ख़ियो में
 
 
मित्र को भेजें कहानी छापें
 
  मौसम |हम कौन हैं | हमारा पता | गोपनीयता | मदद चाहिए
 
BBC Copyright Logo ^^ वापस ऊपर चलें
 
  पहला पन्ना | भारत और पड़ोस | खेल की दुनिया | मनोरंजन एक्सप्रेस | आपकी राय | कुछ और जानिए
 
  BBC News >> | BBC Sport >> | BBC Weather >> | BBC World Service >> | BBC Languages >>