BBCHindi.com
अँग्रेज़ी- दक्षिण एशिया
उर्दू
बंगाली
नेपाली
तमिल
 
मंगलवार, 27 दिसंबर, 2005 को 14:32 GMT तक के समाचार
 
मित्र को भेजें कहानी छापें
ख़ूबसूरती की मिसाल थी नूरजहाँ: नौशाद
 

 
 
नूरजहाँ और लता मंगेशकर
नूरजहाँ लता मंगेशकर के काफ़ी क़रीब समझी जाती थीं
भारतीय फ़िल्म उद्योग के सुप्रसिद्ध संगीतकार नौशाद ने भारत-पाकिस्तान की महान गायिका और अभिनेत्री नूरजहाँ की हाल ही में हुई उनकी पाँचवीं बरसी पर उन्हें भावभीनी श्रद्धांजलि पेश की.

बीबीसी से एक बातचीत में अपनी पुरानी यादों को ताज़ा करते हुए उन्होंने कहा, " यह वह दौर था जब यादगार और सदाबहार फ़िल्में बनती थीं और बड़े कलाकार हुआ करते थे."

नौशाद साहब ने मलकाए तरन्नुम के नाम से मशहूर नूरजहाँ की एक ही फ़िल्म "अनमोल घड़ी" के लिए संगीत दिया था जो कि नौशाद के संगीत, नूरजहाँ के अभिनय और उनकी गायकी के कारण आज भी बॉलीवुड की यादगार फ़िल्मों में गिनी जाती है.

नौशाद साहब के अनुसार 'अनमोल घड़ी' का गीत 'आवाज़ दे कहाँ है…' नूरजहाँ की खूबसूरत आवाज़ के कारण हमेशा याद रहेगा."

 नूरजहाँ ख़ुद जितनी खूबसूरत थीं उनकी आवाज़ उस से ज़्यादा सुरीली थी. भारत के विभाजन के बाद वह पाकिस्तान चली गईं लेकिन हमेशा वहाँ से फोन करतीं तो रो पड़ती थीं
 
नौशाद

नूरजहाँ को भी अपना वही गीत पसंद था और वह अपने हर कार्यक्रम का प्रारंभ उसी यादगार गीत से किया करती थीं.

नौशाद का कहना है, "नूरजहाँ ख़ुद जितनी खूबसूरत थीं उनकी आवाज़ उस से ज़्यादा सुरीली थी. भारत के विभाजन के पश्चात वह पाकिस्तान चली गईं लेकिन हमेशा वहां से फोन करतीं तो रो पड़ती थीं."

नूरजहाँ कुछ दिन मुंबई में रहीं और उन्होंने हम से अपना वह घर देखने की ख्वाहिश ज़ाहिर की जिस में वह विभाजन से पहले रहा करती थीं. हम सब साथ गए, चौपाटी का इलाक़ा था, उस घर में पहुंच कर उस घर से जुड़ी नूरजहाँ की सारी यादें ताज़ा हो गईं.

उन्होंने घर का एक एक कोना पकड़ा और रोने लगीं. दर असल एक तो फ़नकार ज़ज़्बाती होता है और दूसरे इंसान अपना बचपन और उस से जुड़ी यादें कभी भूल नहीं पाता. यही नूरजहाँ के साथ हुआ.

वहां से हम सब दिलीप कुमार के घर गए. नूरजहाँ ने वहाँ पहुँच कर कहा कि वह आज अपने हाथों से खाना पका कर खिलाएँगी. फिर उस दिन किचन उन्होंने संभाला, खाना तैयार हुआ.

वह शाम हमारे लिए और नूरजहाँ के लिए एक यादगार शाम थी, महान कलाकारों और अच्छे इंसानों के साथ गुज़ारे पल वक़्त के हसीन लम्हे बन जाते हैं, अब यहाँ ना ऐसे इंसान हैं और ना ही ऐसे कलाकार."

 
 
लता मंगेशकरलता का सुरीला सफ़र
हज़ारों यादगार गीत गाने वाली लता अब 75 वर्ष की हो गई हैं.
 
 
ग़ज़ल गायक मेहदी हसनएक संगीतमय जीवन
ग़ज़ल गायक मेहदी हसन की आज भी बहुत सारी यादें जुड़ी हैं भारत से...
 
 
पीनाज़ मसानीग़ज़ल ख़ूबसूरत है
पीनाज़ मसानी मानती हैं कि ग़ज़ल आज भी बेहद ख़ूबसूरत चीज़ है.
 
 
हिमालयसुरों की नई बुलंदी
एवरेस्ट के आधार शिविर के पास कॉन्सर्ट आयोजित करके बनाया नया रिकॉर्ड.
 
 
इससे जुड़ी ख़बरें
सुर्ख़ियो में
 
 
मित्र को भेजें कहानी छापें
 
  मौसम |हम कौन हैं | हमारा पता | गोपनीयता | मदद चाहिए
 
BBC Copyright Logo ^^ वापस ऊपर चलें
 
  पहला पन्ना | भारत और पड़ोस | खेल की दुनिया | मनोरंजन एक्सप्रेस | आपकी राय | कुछ और जानिए
 
  BBC News >> | BBC Sport >> | BBC Weather >> | BBC World Service >> | BBC Languages >>