BBCHindi.com
अँग्रेज़ी- दक्षिण एशिया
उर्दू
बंगाली
नेपाली
तमिल
 
शुक्रवार, 12 जनवरी, 2007 को 10:18 GMT तक के समाचार
 
मित्र को भेजें कहानी छापें
पहली बार नज़र आई आईफ़ोन की शान
 
आई फ़ोन
ऐसा लगता है कि आईफ़ोन बाज़ार में उतारकर ऐपल कंपनी ने अपने बेहद उत्सुक उपभोक्ताओं की अपेक्षाओं से भी ज़्यादा सुविधाएँ देने की कोशिश की है.

आईफ़ोन पर जो शुरूआती प्रतिक्रियाएँ मिलीं उनमें से एक में कहा गया था कि ऐपल ने चौड़े पर्दे वाले आईपॉड, मोबाइल टेलीफ़ोन और इंटरनेट की सुविधा देने वाले उपकरण को मिलाकर ये सारी सुविधाएँ एक आईफ़ोन में भर दी हैं.

इसकी सबसे ख़ास और नई विशेषता ये है कि यह टचस्क्रीन से काम कर सकता है यानी अगर आप टेलीफ़ोन पर किसी से बात करना चाहें या फिर संगीत सुनना चाहें तो बटन दबाने के बदले सीधे स्क्रीन पर बने आइकॉन को छू सकते हैं.

हालाँकि कुछ विशेषज्ञों ने सवाल भी उठाए हैं कि क्या इस उपकरण में मोबाइल टेलीफ़ोन की इतनी ज़रूरत होगी कि इससे बाज़ार पर अलग असर डाला जा सके.

कुछ का यह भी कहना है कि आईफ़ोन की क़ीमत 499 डॉलर (लगभग 25 हज़ार रूपए) रखी गई है जो बाज़ार में इस उपकरण के लिए ज़्यादा लगती है.

आसान इस्तेमाल

उपभोक्ता हालाँकि इस बात पर ख़ुश हैं कि इस कंपनी ने आकर्षक डिज़ाइन में सुधार की उनकी अपेक्षाओं को पूरा किया है और इसका स्तर वही रखा गया है जिसकी उम्मीद एप्पल के डिज़ाइन विभाग मुखिया जोनाथन ईव से की जा सकती है.

मैक फ़ोरमैट नामक पत्रिका के संपादक ग्राहम बारलो इसकी क़ीमत से ज़्यादा परेशान नहीं दिखते और वे एक नहीं दो ख़रीदना चाहते हैं, "मैं एक सैट को डिब्बे में ही रखकर उसे निहारते रहना चाहता हूँ और दूसरे को इस्तेमाल करने की इच्छा रखता हूँ."

बहुत से अन्य उपभोक्ताओं की ही तरह ग्राहम भी टचस्क्रीन से ख़ासे प्रभावित हैं. ऐपल ने इस सुविधा को 'मल्टी टच तकनीक' का नाम दिया है.

ग्राहम बारलो कहते हैं कि ऐपल के मुखिया स्टीव जोब्स का यह कहना सही है कि लोग लोग अब ऐसा उपकरण नहीं चाहते जिसे चलाने के लिए पैंसिल नुमा स्टाइलस का इस्तेमाल करना पड़े.

आईफ़ोन में किसी भी आइकॉन को छूकर इस्तेमाल किया जा सकता है, छूकर ही कॉल की जा सकती है या अगर कोई कॉल आती है तो एक अन्य आइकॉन को छूकर बात शुरू की जा सकती है.

एक तीसरा आइकॉन भी बनाया गया है जिसे छूने से तीन अलग-अलग लाइनों से बात करने वाले एक साथ आपस में बातचीत कर सकते हैं.

हालाँकि टच स्क्रीन कोई बहुत नई तकनीक नहीं है जिसका इस्तेमाल फ़ोन में पहली बार हो रहा हो, नोकिया जैसी कंपनियाँ अपने महँगे मॉडलों में इसका इस्तेमाल करती हैं.

 
 
इससे जुड़ी ख़बरें
आईपॉड की टक्कर में ज़ून
22 जुलाई, 2006 | पत्रिका
अब आई-पॉड पर देखिए वीडियो
13 अक्तूबर, 2005 | विज्ञान
ऐपल का एक और धमाका
07 सितंबर, 2005 | विज्ञान
इंटरनेट लिंक्स
बीबीसी बाहरी वेबसाइट की विषय सामग्री के लिए ज़िम्मेदार नहीं है.
सुर्ख़ियो में
 
 
मित्र को भेजें कहानी छापें
 
  मौसम |हम कौन हैं | हमारा पता | गोपनीयता | मदद चाहिए
 
BBC Copyright Logo ^^ वापस ऊपर चलें
 
  पहला पन्ना | भारत और पड़ोस | खेल की दुनिया | मनोरंजन एक्सप्रेस | आपकी राय | कुछ और जानिए
 
  BBC News >> | BBC Sport >> | BBC Weather >> | BBC World Service >> | BBC Languages >>