BBCHindi.com
अँग्रेज़ी- दक्षिण एशिया
उर्दू
बंगाली
नेपाली
तमिल
 
गुरुवार, 24 मई, 2007 को 21:33 GMT तक के समाचार
 
मित्र को भेजें कहानी छापें
टेढ़ी खीर
 
मुहावरे की कथा

एक नवयुवक था. छोटे से क़स्बे का. अच्छे खाते-पीते घर का लेकिन सीधा-सादा और सरल सा. बहुत ही मिलनसार.

एक दिन उसकी मुलाक़ात अपनी ही उम्र के एक नवयुवक से हुई. बात-बात में दोनों दोस्त हो गए. दोनों एक ही तरह के थे. सिर्फ़ दो अंतर थे, दोनों में. एक तो यह था कि दूसरा नवयुवक बहुत ही ग़रीब परिवार से था और अक्सर दोनों वक़्त की रोटी का इंतज़ाम भी मुश्किल से हो पाता था. दूसरा अंतर यह कि दूसरा जन्म से ही नेत्रहीन था. उसने कभी रोशनी देखी ही नहीं थी. वह दुनिया को अपनी तरह से टटोलता-पहचानता था.

लेकिन दोस्ती धीरे-धीरे गाढ़ी होती गई. अक्सर मेल मुलाक़ात होने लगी.

एक दिन नवयुवक ने अपने नेत्रहीन मित्र को अपने घर खाने का न्यौता दिया. दूसरे ने उसे ख़ुशी-ख़ुशी स्वीकार किया.

दोस्त पहली बार खाना खाने आ रहा था. अच्छे मेज़बान की तरह उसने कोई कसर नहीं छोड़ी. तरह-तरह के व्यंजन और पकवान बनाए.

दोनों ने मिलकर खाना खाया. नेत्रहीन दोस्त को बहुत आनंद आ रहा था. एक तो वह अपने जीवन में पहली बार इतने स्वादिष्ट भोजन का स्वाद ले रहा था. दूसरा कई ऐसी चीज़ें थीं जो उसने अपने जीवन में इससे पहले कभी नहीं खाईं थीं.

इसमें खीर भी शामिल थी. खीर खाते-खाते उसने पूछा, "मित्र, यह कौन सा व्यंजन है, बड़ा स्वादिष्ट लगता है."

मित्र ख़ुश हुआ. उसने उत्साह से बताया कि यह खीर है.

सवाल हुआ, "तो यह खीर कैसा दिखता है?"

"बिलकुल दूध की तरह ही. सफ़ेद."

जिसने कभी रोशनी न देखी हो वह सफ़ेद क्या जाने और काला क्या जाने. सो उसने पूछा, "सफ़ेद? वह कैसा होता है."

मित्र दुविधा में फँस गया. कैसे समझाया जाए कि सफ़ेद कैसा होता है. उसने तरह-तरह से समझाने का प्रयास किया लेकिन बात बनी नहीं.

आख़िर उसने कहा, "मित्र सफ़ेद बिलकुल वैसा ही होता है जैसा कि बगुला."

"और बगुला कैसा होता है."

यह एक और मुसीबत थी कि अब बगुला कैसा होता है यह किस तरह समझाया जाए. कई तरह की कोशिशों के बाद उसे तरक़ीब सूझी. उसने अपना हाथ आगे किया, उँगलियाँ को जोड़कर चोंच जैसा आकार बनाया और कलाई से हाथ को मोड़ लिया. फिर कोहनी से मोड़कर कहा, "लो छूकर देखो कैसा दिखता है बगुला."

दृष्टिहीन मित्र ने उत्सुकता में दोनों हाथ आगे बढ़ाए और अपने मित्र का हाथ छू-छूकर देखने लगा. हालांकि वह इस समय समझने की कोशिश कर रहा था कि बगुला कैसा होता है लेकिन मन में उत्सुकता यह थी कि खीर कैसी होती है.

जब हाथ अच्छी तरह टटोल लिया तो उसने थोड़ा चकित होते हुए कहा, "अरे बाबा, ये खीर तो बड़ी टेढ़ी चीज़ होती है."

वह फिर खीर का आनंद लेने लगा. लेकिन तब तक खीर ढेढ़ी हो चुकी थी. यानी किसी भी जटिल काम के लिए मुहावरा बन चुका था "टेढ़ी खीर."

 
 
चित्रांकन - हरीश परगनिहागुल बकावली
एक शहज़ादे की कहानी जिसने अपनी पिता के लिए जोख़िम उठाया.
 
 
चित्रांकन - हरीश परगनिहान तीन में न तेरह में
पढ़िए 'न तीन में न तेरह में' मुहावरे के बनने की कथा.
 
 
चित्रांकनः हरीश परगनिहाएक लोककथा
एक लड़के के सवाल में छिपा था प्रकृति के संतुलन का राज़. एक लोककथा.
 
 
चित्रांकन - हेम ज्योतिकाहमहुँ मेला देखे जाबै
बुढ़ापे और खुमारी के बीच आत्मसम्मान पर राजेश कुमार मिश्र की कहानी.
 
 
चित्राकंन-हेम ज्योतिकातारीख़ी सनद
मानवीय रिश्तों और फ़र्ज़ के बीच के असमंजस पर नासिरा शर्मा की कहानी.
 
 
दीवार पर शेर का सिर..
नायिका क्या दीवार पर टँगे शेर से सिर की तरह है? अलका पाठक की कहानी.
 
 
रेखांकन - हेम ज्योतिकातीन मौन दृश्य और...
इस अंक में देवेंद्र इस्सर की कहानी.
 
 
इससे जुड़ी ख़बरें
शह और मात
27 अप्रैल, 2007 | मनोरंजन एक्सप्रेस
ताक़तवर कौन?
20 अप्रैल, 2007 | मनोरंजन एक्सप्रेस
जलतरंग
12 अप्रैल, 2007 | मनोरंजन एक्सप्रेस
महानगर के पति
06 अप्रैल, 2007 | मनोरंजन एक्सप्रेस
हमहुँ मेला देखे जाबै
30 मार्च, 2007 | मनोरंजन एक्सप्रेस
कहानी- नम्रता डर रही है
16 फ़रवरी, 2007 | मनोरंजन एक्सप्रेस
कहानी - आस
09 फ़रवरी, 2007 | मनोरंजन एक्सप्रेस
कहानी - बुआ
01 फ़रवरी, 2007 | मनोरंजन एक्सप्रेस
सुर्ख़ियो में
 
 
मित्र को भेजें कहानी छापें
 
  मौसम |हम कौन हैं | हमारा पता | गोपनीयता | मदद चाहिए
 
BBC Copyright Logo ^^ वापस ऊपर चलें
 
  पहला पन्ना | भारत और पड़ोस | खेल की दुनिया | मनोरंजन एक्सप्रेस | आपकी राय | कुछ और जानिए
 
  BBC News >> | BBC Sport >> | BBC Weather >> | BBC World Service >> | BBC Languages >>