BBCHindi.com
अँग्रेज़ी- दक्षिण एशिया
उर्दू
बंगाली
नेपाली
तमिल
 
सोमवार, 19 मई, 2008 को 09:24 GMT तक के समाचार
 
मित्र को भेजें   कहानी छापें
नाटककार विजय तेंदुलकर का निधन
 
विजय तेंदुलकर
तेंदुलकर को साहित्य के क्षेत्र में योगदान के लिए 1984 में पद्म भूषण सम्मान दिया गया
मशहूर नाटककार और सिनेमा, टेलीविज़न की दुनिया के पटकथा लेखक विजय तेंदुलकर का सोमवार को निधन हो गया.

अस्सी साल के तेंदुलकर पिछले कुछ समय से बीमार चल रहे थे. महाराष्ट्र के पुणे शहर के एक अस्पताल में उन्होंने अंतिम साँस ली.

'शांताता! कोर्ट चालू आहे', 'घासीराम कोतवाल' और 'सखाराम बाइंडर' उनके लिखे बहुचर्चित नाटक हैं.

सत्तर के दशक में उनके कुछ नाटकों को विरोध भी झेलना पड़ा लेकिन वास्तविकता से जुड़े इन नाटकों का मंचन आज भी होना उनकी स्वीकार्यता का प्रमाण है.

पद्मभूषण से सम्मानित तेंदुलकर को श्याम बेनेगल की फ़िल्म 'मंथन' की पटकथा के लिए वर्ष 1977 में राष्ट्रीय पुरस्कार भी मिला था.

उनकी लिखी पटकथा वाली कई कलात्मक फ़िल्मों ने समीक्षकों पर गहरी छाप छोड़ी. इन फ़िल्मों में 'अर्द्धसत्य', 'निशांत', 'आक्रोश' शामिल हैं.

बचपन से ही रंगमंच से जुड़े रहे तेंदुलकर को मराठी और हिंदी में अपने लेखन के लिए संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार, संगीत नाटक अकादमी फेलोशिप, महाराष्ट्र गौरव पुरस्कार जैसे सम्मान भी मिले.

हिंसा के अलावा सेक्स, मौत और सामाजिक प्रक्रियाओं पर उन्होंने लिखा. उन्होंने भ्रष्टाचार, महिलाओं और ग़रीबी पर भी जमकर लिखा.

छह साल की उम्र में कहानी

मंच और पर्दे पर विजय...
प्रमुख फ़िल्में
मंथन
अर्द्धसत्य
निशांत
सामना
आक्रोश
सरदार
प्रमुख नाटक
शांताता! कोर्ट चालू आहे
घासीराम कोतवाल
सखाराम बाइंडर
सफ़र

महाराष्ट्र के कोल्हापुर में 6 जनवरी, 1928 को एक ब्राह्मण परिवार में पैदा हुए विजय ढोंडोपंत तेंदुलकर ने महज़ छह साल की उम्र में अपनी पहली कहानी लिखी थी.

उनके पिता नौकरी के साथ ही प्रकाशन का भी छोटा-मोटा व्यवसाय करते थे इसलिए पढ़ने-लिखने का माहौल उन्हें घर में ही मिल गया.

पश्चिमी नाटकों को देखते हुए बड़े हुए विजय ने मात्र 11 साल की उम्र में पहला नाटक लिखा, उसमें काम किया और उसे निर्देशित भी किया.

उन्हें मानव स्वभाव की गहरी समझ थी. .

शुरुआती दिनों में विजय ने अख़बारों में काम किया था. बाद में भी वे अख़बारों के लिए लिखते रहे.

कहा जाता है कि उनके बहुचर्चित नाटक 'घासीराम कोतवाल' का छह हज़ार से ज़्यादा बार मंचन हो चुका है.

इतनी बड़ी संख्या में किसी और भारतीय नाटक का अभी तक मंचन नहीं हो सका है.

उनके लिखे कई नाटकों का अंग्रेज़ी समेत दूसरी भाषाओं में अनुवाद और मंचन हुआ है.

पांच दशक से ज़्यादा समय तक सक्रिय रहे तेंदुलकर ने रंमगंच और फ़िल्मों के लिए लिखने के अलावा कहानियाँ और उपन्यास भी लिखे.

उनकी बेटी प्रिया तेंदुलकर टीवी धारावाहिक 'रजनी' में अपनी भूमिका के बाद टेलीविज़न की पहली स्टार कही जाने लगीं थीं.

प्रिया का वर्ष 2002 में 42 वर्ष की आयु में निधन हो गया था.

 
 
ऑर्थर क्लार्क ऑर्थर क्लार्क नहीं रहे
विज्ञान कथाओं के अद्धुत लेखक ऑर्थर क्लार्क का निधन हो गया.
 
 
अमजद ख़ान - शोले के गब्बर सिंह जीपी सिप्पी का निधन
गब्बर सिंह का चरित्र मशहूर करने वाले जीपी सिप्पी का निधन हो गया है.
 
 
इससे जुड़ी ख़बरें
फ़िल्मकार हृषिकेश मुखर्जी का निधन
27 अगस्त, 2006 | मनोरंजन एक्सप्रेस
साहित्यकार निर्मल वर्मा का निधन
26 अक्तूबर, 2005 | मनोरंजन एक्सप्रेस
चरित्र अभिनेत्री निरूपा राय नहीं रहीं
14 अक्तूबर, 2004 | मनोरंजन एक्सप्रेस
महमूद को मुंबई में श्रद्धांजलि
28 जुलाई, 2004 | मनोरंजन एक्सप्रेस
मशहूर फ़िल्मकार यश जौहर का निधन
26 जून, 2004 | मनोरंजन एक्सप्रेस
सितारवादक उस्ताद विलायत ख़ाँ नहीं रहे
14 मार्च, 2004 | मनोरंजन एक्सप्रेस
प्रसिद्ध अभिनेत्री सुरैया का निधन
31 जनवरी, 2004 | मनोरंजन एक्सप्रेस
हास्य अभिनेत्री टुनटुन का निधन
24 नवंबर, 2003 | मनोरंजन एक्सप्रेस
सुर्ख़ियो में
 
 
मित्र को भेजें   कहानी छापें
 
  मौसम |हम कौन हैं | हमारा पता | गोपनीयता | मदद चाहिए
 
BBC Copyright Logo ^^ वापस ऊपर चलें
 
  पहला पन्ना | भारत और पड़ोस | खेल की दुनिया | मनोरंजन एक्सप्रेस | आपकी राय | कुछ और जानिए
 
  BBC News >> | BBC Sport >> | BBC Weather >> | BBC World Service >> | BBC Languages >>