BBCHindi.com
अँग्रेज़ी- दक्षिण एशिया
उर्दू
बंगाली
नेपाली
तमिल
 
शनिवार, 13 दिसंबर, 2008 को 14:06 GMT तक के समाचार
 
मित्र को भेजें   कहानी छापें
एआर रहमान गोल्डन ग्लोब में नामांकित
 
एआर रहमान
एआर रहमान ने इस फ़िल्म में संगीत दिया है
ब्रितानी निर्देशक डैनी बॉएल की चर्चित फ़िल्म स्लमडॉग मिलियनेयर को 66वें गोल्डन ग्लोब पुरस्कार की चार श्रेणियों में नामांकित किया गया है.

इसी फ़िल्म के लिए भारत के चर्चित संगीतकार एआर रहमान को भी सर्वश्रेष्ठ मौलिक संगीत की श्रेणी में नामांकन मिला है.

इस फ़िल्म की कहानी मुंबई के एक किशोर पर आधारित है, जो कंगाल से मालामाल हो जाता है. संगीतकार एआर रहमान ने गोल्डन ग्लोब पुरस्कारों के लिए फ़िल्म को मिले कई नामांकन पर ख़ुशी जताई है.

नई दिल्ली में पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने कहा, "इतने नामांकन के बारे में सुनकर अच्छा लग रहा है. मेरा हमेशा से यह मानना रहा है कि मैं तो सिर्फ़ एक तत्व हूँ, कई अन्य तत्वों के मिल जाने से चीज़ें कुछ और बन जाती हैं. इसी भावना से मैंने सिर्फ़ दो-तीन सप्ताह में इस फ़िल्म का संगीत तैयार किया था."

नामांकन

सर्वश्रेष्ठ मौलिक संगीत के अलावा फ़िल्म को सर्वश्रेष्ठ पिक्चर ड्रामा, सर्वश्रेष्ठ निर्देशक और सर्वश्रेष्ठ पटकथा की श्रेणी में भी नामांकन मिला है.

फ़िल्म में मुंबई के एक किशोर की कहानी है

डैनी बॉएल की फ़िल्म भारतीय लेखक विकास स्वरूप की किताब 'क्यू एंड ए' पर आधारित है. यह फ़िल्म एक ग़रीब लड़के जमाल की कहानी है, जो टीवी रियालिटी शो कौन बनेगा करोड़पति में दो करोड़ रुपए जीत लेता है.

फ़िल्म की ज़्यादातर शूटिंग मुंबई में ही हुई है. एक टीवी चैनल के साथ बातचीत में निर्देशक डैनी बॉएल ने भी इस पर ख़ुशी जताई कि फ़िल्म को इतने नामांकन मिले हैं.

उन्होंने कहा कि ये इस फ़िल्म से जुड़े लोगों के लिए अच्छी ख़बर है. इस फ़िल्म में जमाल की भूमिका निभाई है देव पटेल ने. जबकि अनिल कपूर और इरफ़ान ख़ान ने भी फ़िल्म में काम किया है.

 
 
इससे जुड़ी ख़बरें
अरविंद अडिगा को मिला बुकर पुरस्कार
14 अक्तूबर, 2008 | मनोरंजन एक्सप्रेस
नोबेल शांति पुरस्कार आख़्तिसारी को
10 अक्तूबर, 2008 | मनोरंजन एक्सप्रेस
दिलीप कुमार को लाइफ़टाइम अवार्ड
02 सितंबर, 2008 | मनोरंजन एक्सप्रेस
बुकर की दौड़ में चार एशियाई लेखक
30 जुलाई, 2008 | मनोरंजन एक्सप्रेस
सलमान रश्दी को 'बेस्ट ऑफ बुकर'
10 जुलाई, 2008 | मनोरंजन एक्सप्रेस
'एक ख़ास तबक़ा डरता है...ये सोच आगे न जाए...'
09 जुलाई, 2008 | मनोरंजन एक्सप्रेस
इंटरनेट लिंक्स
बीबीसी बाहरी वेबसाइट की विषय सामग्री के लिए ज़िम्मेदार नहीं है.
सुर्ख़ियो में
 
 
मित्र को भेजें   कहानी छापें
 
  मौसम |हम कौन हैं | हमारा पता | गोपनीयता | मदद चाहिए
 
BBC Copyright Logo ^^ वापस ऊपर चलें
 
  पहला पन्ना | भारत और पड़ोस | खेल की दुनिया | मनोरंजन एक्सप्रेस | आपकी राय | कुछ और जानिए
 
  BBC News >> | BBC Sport >> | BBC Weather >> | BBC World Service >> | BBC Languages >>