BBCHindi.com
अँग्रेज़ी- दक्षिण एशिया
उर्दू
बंगाली
नेपाली
तमिल
 
गुरुवार, 22 जनवरी, 2009 को 19:01 GMT तक के समाचार
 
मित्र को भेजें   कहानी छापें
'भगवान ने सरप्राइज़ दिया है'
 
एआर रहमान को ग्लोडन ग्लोब पहले ही मिल चुका है
संगीतकार एआर रहमान स्लमडॉग मिलिनेयर के लिए पहले ही गोल्डन ग्लोब हासिल कर चुके हैं और अब ऑस्कर के लिए एक नही बल्कि तीन नामांकन मिले हैं.

ऑस्कर के नामांकन की ख़बर आने के बाद बीबीसी हिंदी की अनुराधा प्रीतम ने उनसे फ़ोन पर बात की.

फ़िल्म स्लमडॉग मिलिनेयर को इतने सारे नामांकन मिले हैं, आप कितने ख़ुश हैं?

आह! हम सातवें आसमान पर हैं, ऐसा महसूस कर रहे हैं, ये बिल्कुल ही अविश्वसनीय है. जब मैंने ये फ़िल्म की थी तब मैंनै इससे कोई कोई उम्मीद नही रखी थी. मुझे ये फ़िल्म अच्छी लगी थी.

ये इतना अच्छा एहसास था-आपको ये फ़िल्म देखनी होगी--समझने के लिए कि मैं क्या कह रहा हूँ. ज़िंदगी जीने का मन करने लगेगा. और इसी की वजह से मैं फ़िल्म का संगीत बना पाया.

ये तो फ़िल्म की बात हुई लेकिन आपको ख़ुद भी तीन नामांकन मिले हैं, कैसा लग रहा है?

नही, नही, हममें से किसी ने इसकी उम्मीद नही की थी, ये शायद भगवान ने हमें सरप्राइज़ दिया है. जब हम बहुत उम्मीदें करते हैं तब हमे कुछ नही मिलता और जब कुछ भी नही माँगा तो फिर इतना मिलता है. ऐसा मुझे लगता है.

क्या आपको लगता है कि इससे विश्व स्तर पर आपको और फ़िल्म को एक पहचान मिलेगी और खास तौर पर दूसरे भारतीय कलाकारों के लिए रास्ता खुल जाएगा?

बिल्कुल. मुझे लगता है कि अब सही समय आ ही गया है. अब भारत के कलाकार भी पहले जैसे नही रहे. वो खुले विचारों वाले हैं, उन्हें विविधता पसंद है, वो अब क्वालिटी पसंद करते हैं. तो मै उम्मीद करता हूँ कि ये एक पुल की तरह काम करे, भारतीय कलाकारों के लिए कि ये उस पार जाकर पूरी दुनिए जीत लें.

कुछ लोग ऐसी बातें कर रहे हैं कि फ़िल्म में भारत की ग़रीबी बेचने की कोशिश की गई है, इस पर आप क्या कहेंगे?

मुझे ऐसा नही लगता. अगर मुझे एक सेकंड के लिए भी ऐसा लगता तो मैं ये फ़िल्म नही करता. मैं एक फ़िल्म को एक टोटालिटी में देखता हूँ. उससे एक कला के संपूर्ण स्वरुप के तौर पर देखता हूँ, और ये देखता हूँ कि वो क्या कह रहा है और फ़िल्म देखने के बाद बाहर आने पर कैसा लगता है. ये फ़िल्म ब्राजील में भी हो सकती थी, ये फिर चीन में, या अमरीका की झुग्गियों की कहानी हो सकती थी ये. -इस फ़िल्म का एक मानवीय पहलू है और एक उत्साह है, जीवन के प्रति.

क्या आपको लगता है, भारत और भारतीय संगीत को एक मौका मिलेगा भविष्य में, ख़ासकर ऑस्कर्स और गोल्डन ग्लोब के बाद?

बिल्कुल. मुझे अभी से हॉलीवुड से ऑफ़र्स आ रहे हैं, वहां के संगीतज्ञों से कि हमें, भारतीय संगीत से वो वायलिन वाली आवाज़ चाहिए, उस वाद्य यन्त्र से निकलता वो संगीत चाहिए-- मुझे संकेत भेजे जा रहे हैं, वहां से कि मै उनके संगीत का कोऑर्डिनेशन करूँ. अभी तो मैं अपनी आने वाली फिल्मों का कोऑर्डिनेशन कर रहा हूँ.

 
 
इससे जुड़ी ख़बरें
'पूरा जीवन फ़िल्म में नहीं खपा सकता'
14 अप्रैल, 2008 | मनोरंजन एक्सप्रेस
एआर रहमान गोल्डन ग्लोब में नामांकित
13 दिसंबर, 2008 | मनोरंजन एक्सप्रेस
रहमान ने रचा इतिहास
12 जनवरी, 2009 | मनोरंजन एक्सप्रेस
'रहमान गोल्डन ग्लोब के हक़दार थे'
13 जनवरी, 2009 | मनोरंजन एक्सप्रेस
सुर्ख़ियो में
 
 
मित्र को भेजें   कहानी छापें
 
  मौसम |हम कौन हैं | हमारा पता | गोपनीयता | मदद चाहिए
 
BBC Copyright Logo ^^ वापस ऊपर चलें
 
  पहला पन्ना | भारत और पड़ोस | खेल की दुनिया | मनोरंजन एक्सप्रेस | आपकी राय | कुछ और जानिए
 
  BBC News >> | BBC Sport >> | BBC Weather >> | BBC World Service >> | BBC Languages >>