प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

'खालिस्तानी आंदोलन दोबारा नहीं पनप सकता'

  • 15 मार्च 2013

विदेश में रहने वाले कई अलगाववादी खालिस्तानी नेता भारत लौटना चाहते हैं मगर उनका कहना है कि उनका नाम एक ब्लैकलिस्ट है जिसकी वजह से उन्हें भारत जाने का वीज़ा नहीं मिलता.

पंजाब में खालिस्तानी आंदोलन से सख़्ती से निबटने वाले तत्कालीन पुलिस महानिदेशक केपीएस गिल का कहना है कि जिन लोगों ने पासपोर्ट के नियमों का उल्लंघन किया है उन्हीं का नाम ब्लैकलिस्ट में है, बाक़ी किसी व्यक्ति के आने पर कोई रोक नहीं है.

गिल का कहना है कि इनमें से बहुत सारे ऐसे लोग हैं जो भारत में कोई अपराध करके भागे हैं या फिर विदेश में रहने हुए उन लोगों की आर्थिक मदद कर रहे थे जो भारत में हिंसक गतिविधियों में शामिल थे.

केपीएस गिल का कहना है कि खालिस्तानी आंदोलन को पंजाब में कोई समर्थन नहीं है मगर भारत से बाहर यह विचार अभी पूरी तरह ख़त्म नहीं हुआ है लेकिन धीरे धीरे ख़त्म हो रहा है.

उनका कहना है कि अब खालिस्तानी आंदोलन दोबारा कभी शुरू नहीं हो सकता.