सैकड़ों का सरताज, करोड़ों की धड़कन