हिरासत में दलित युवक की मौत, 4 पुलिसवाले गिरफ्तार

  • 26 सितंबर 2016
इमेज कॉपीरइट CGKhabar
Image caption दलित युवक सतीश नोरगे

छत्तीसगढ़ के जांजगीर-चांपा ज़िले में पुलिस हिरासत में कथित रुप से पीट-पीट कर दलित युवक की हत्या के आरोपी थाना प्रभारी समेत चार पुलिसकर्मियों को गिरफ़्तार कर जेल भेज दिया गया है.

ज़िले के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक पंकज चन्द्रा के अनुसार, "आरोपियों से पूछताछ कर अपराध की विवेचना की गई. सबूत मिलने पर शाम को नामजद चारों आरोपियों को विधिवत गिरफ्तार कर जिला सत्र न्यायालय जांजगीर में न्यायिक मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया गया, जहां से इन्हें बिलासपुर स्थित केन्द्रीय जेल भेजा गया."

इमेज कॉपीरइट CGKhabar

इस बीच राज्य में विपक्षी दल कांग्रेस ने सोमवार को इस मामले में गृहमंत्री के इस्तीफ़े की मांग करते हुये राज्य भर में जेल भरो आंदोलन की घोषणा की है.

आरोप है कि जांजगीर-चांपा के नरियरा गांव के एक इलाके में पिछले कई दिनों से बिजली नहीं थी. इस मामले की शिकायत करने बीते 17 सितंबर को जब गांव के सतीश नोरगे बिजली विभाग पहुंचे तो वहां अधिकारियों से उनकी बहस हो गई.

इसके बाद मुलमुला थाने के पुलिसकर्मियों ने बिना किसी रिपोर्ट के सतीश को थाने ले कर आ गये.

इमेज कॉपीरइट CGKhabar

परिजनों का आरोप है कि उनके सामने ही सतीश को पीट-पीट कर मार डाला गया.

मौत की इस ख़बर के बाद से ही राज्य के कई हिस्सों में धरना-प्रदर्शन का सिलसिला शुरु हो गया. जिसके बाद पुलिस ने मुलमुला थाना के प्रभारी जितेन्द्र सिंह राजपूत, दो आरक्षक और एक नगर सैनिक को बर्खास्त कर दिया था.

बढ़ते विरोध प्रदर्शन को देखते हुये हत्या का मामला दर्ज़ किया गया. रविवार को इन बर्खास्त पुलिसकर्मियों को गिरफ्तार किया गया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)