'जबरन उपवास से 13 साल की लड़की की मौत'

  • 8 अक्तूबर 2016
Image caption एक लड़की का फाइल फोटो

भारत के दक्षिणी शहर हैदराबाद में पिता के मुनाफ़े के लिए 60 दिन से ज्यादा समय तक उपवास रखने और इसकी वजह से लड़की की मौत का कथित मामला सामने आया है.

एक गैर-सरकारी संगठन बलाला हक्कुला संगम ने पुलिस से शिकायत की है कि पिता के मुनाफ़े के लिए 13 साल की लड़की को उपवास के लिए मजबूर किया गया.

संगम के अध्यक्ष अच्युत राव ने बीबीसी को बताया, "ये पूरे देश के लिए शर्म का मामला है कि आज भी ऐसी परंपराएं हैं. उनके पिता के गुरू ने परिवार को सलाह दी कि अगर वो 68 दिन तक उपवास करती है तो उन्हें व्यापार में लाभ होगा."

राव ने कहा, "2 अक्टूबर को उसका उपवास पूरा होने के बाद बड़े जश्न का आयोजन किया गया. उस रात वो लड़की अचानक गिर पड़ी और उसे अस्पताल ले जाया गया. चौंकाने वाली बात ये है कि वो परिवार खुश है कि वो ऐसी अनोखी लड़की थी जिसे भगवान ने अपने पास बुला लिया."

इमेज कॉपीरइट AP
Image caption फाइल चित्र

एक पुलिस अधिकारी ने नाम जाहिर नहीं करने की शर्त पर बीबीसी को बताया कि इस शिकायत की जांच की जा रही है.

पुलिस अधिकारी ने कहा, "हमारी जांच जारी है. हम इस उपवास का कारण पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं. जब हमारी जांच पूरी हो जाएगी और अगर शिकायत सही पाई गई तो हम मामला दर्ज करेंगे."

राव ने आरोप लगाया, " सूर्योदय से सूर्यास्त के बीच लड़की को सिर्फ पानी पीने दिया जाता था. उसमें नमक, नीबू या और कुछ नहीं होता था."

राव ने कहा कि अगर पुलिस ने इस मामले का संज्ञान नहीं लिया तो वो इसे कोर्ट में ले जाएंगे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए