बच्ची को 'व्रत कराने वाले' मां-बाप के खिलाफ़ केस दर्ज

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

13 साल की लड़की को कथित तौर पर 68 दिनों तक व्रत करवाने वाले माता पिता के खिलाफ हैदराबाद पुलिस ने लापरवाही और क्रूरता का मामला दर्ज किया है.

पुलिस ने लड़की के माता-पिता के खिलाफ़ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है.

नाम न छापने की शर्त पर पुलिस अधिकारी ने बताया कि बच्चों के अधिकारों के लिए काम कर रही गैर सरकारी संस्था की शिकायत पर पुलिस ने केस दर्ज किया है.

जिसमें यह लिखा गया है कि लड़की को उसके माता-पिता ने एक पुजारी के कहने पर व्रत करवाया था.

पुलिस अधिकारी ने बीबीसी को बताया कि मामले की जांच शुरू कर दी है, केस भारतीय दंड संहिता की धारा 304 ए और किशोर न्याय अधिनियम की धारा 75 के तहत दर्ज किया गया है.

बलाला हक्कुला संगम, बच्चों के अधिकारों के लिए काम कर रही एनजीओ ने अपनी शिकायत में आरोप लगाया है कि आठवीं की छात्रा को एक पुजारी के कहने पर उसके माता-पिता ने 68 दिनों का व्रत करवाया.

एनजीओ के मुताबिक़ पुजारी ने कहा था कि छात्रा के व्रत करने से उसके पिता के व्यवसाय में मुनाफ़ा होता.

एनजीओ के निदेशक अच्युत राओ ने बीबीसी से कहा ''पुलिस को माता-पिता के खिलाफ़ हत्या का मामला दर्ज करना चाहिए. क्योंकि लड़की नाबालिग थी और उसकी रक्षा करना माता-पिता का कर्तव्य है."

धारा 304ए लापरवाही से हुई मौत के लिए उपयोग होती है. इसमें दो साल की कैद का प्रावधान है, जुर्माने के साथ.

किशोर न्याय अधिनियम की धारा 75 के तहत बच्चे के प्रति क्रूरता करने के लिए तीन साल की सजा दी जाती है.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)