'तीन तलाक़ मामले में सरकार इस्लाम में दखल ना दे'

  • 21 अक्तूबर 2016
इमेज कॉपीरइट Prashant Dayal

एक तरफ़ तीन तलाक़ को लेकर मामला सुप्रीम कोर्ट में पहुंचा है और भारत सरकार के हलफ़नामे को लेकर राजनीति गरमाई है, तो दूसरी तरफ गुजरात के सूरत शहर में हज़ारों की तादाद में मुस्लिम महिलाओं ने प्रदर्शन किया.

इन मुस्लिम महिलाओं की मांग है कि तलाक़ के मामले में सरकार दख़ल ना दे. महिलाओं ने इस संबंध में मांगपत्र ज़िलाधिकारी को सौंपा.

गुजरात के सूरत शहर में शुक्रवार को हज़ारों की तादाद में मुस्लिम महिलाएं सड़कों पर उतरीं. उनके हाथ में बैनर थे, जिस पर लिखा था ' शरियत क़ानून को सरकार बदलने की कोशिश न करे'

इमेज कॉपीरइट Prashant Dayal

रैली में शामिल शहनाज़ पटेल ने बीबीसी से कहा, "हम भारत सरकार को बताना चाहते हैं कि तलाक़ के मामले में शरियत क़ानून ही श्रेष्ठ है. भारत के संविधान से भी यह मामला ऊपर है."

पटेल ने बताया, "हम भारत के संविधान को सलाम करते है, लेकिन जब बात शरियत की आती है, तो हमें क़ुरान का बताया रास्ता ही उत्तम मालूम होता है. इस स्थिति में भारत सरकार कॉमन सिविल कोड के सहारे इस्लाम में हस्तक्षेप करना छोड़ दे."

रैली के आयोजक मुकसुद अहमद ने कहा, "यह प्रदर्शन किसी संस्था द्वारा आयोजित नहीं था, लेकिन कॉमन सिविल कोड को लेकर देश में जो हालात खड़े हुए हैं, उसको लेकर सूरत की महिलाएं अपने आप आगे आई हैं. मेरा मानना है कि कॉमन सिविल कोड के नाम पर भारत सरकार शरियत क़ानून में दखल दे रही है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे