दिल्ली के फूलवालों की सैर

  • 24 अक्तूबर 2016
इमेज कॉपीरइट Preeti mann

कभी ग़ालिब ने फूलवालों की सैर का ज़िक्र करते हुए कहा था,"दिल्ली की हस्ती मुनासिर कई हंगामों पर है किला, चाँदनी चौक , हर रोज मजमा जामा मस्जिद, हर हफ़्ते सैर जमुना के पुल की और दिल्ली में हर साल मेला फूलवालों का ये पाँच बातें अब नहीं फिर दिल्ली कहां."

इमेज कॉपीरइट Preeti mann

दिल्ली के महरौली इलाके में हर साल अक्टूबर-नवम्बर के महीने में "सैर ऐ गुल फरोशां" यानी फूलवालों की सैर के रूप में धार्मिक सौहाद्र का उत्सव मनाया जाता है. इस सैर की शुरुआत 1812 में अकबर शाह द्वितीय द्वारा अपनी बेग़म मुमताज महल की मन्नत पूरी करने के लिए की गयी थी.

इमेज कॉपीरइट Preeti mann

जिसमें बेग़म ने मन्नत ली थी की उनके बेटे मिर्ज़ा जहाँगीर के सही सलामत दिल्ली लौटने पर वो माता योगमाया के मंदिर में फूलों का पंखा चढ़ाने जाएँगी और हज़रत बख्तियार काकी की दरगाह पर फूलों की चादर चढ़ाएंगी. जिसमें हिंदू - मुस्लिम दोनों समुदाय पूरे जोश से शामिल हुए और यह सिलसिला आज तक बरक़रार है.

इमेज कॉपीरइट Preeti mann

माता योगमाया भगवान श्री कृष्ण की बहन थी, जिसे कंस ने कृष्ण समझ कर वध कर दिया था. कहते हैं उनका शीश इस जगह गिरा था. तबसे इस मंदिर में योगमाया की पिंडी स्थापित है. यहां चढ़ाये जाने वाले पंखे साल भर मंदिर में लगे रहते हैं. यह पंखे भारत के अलग-अलग राज्यों से आते हैं.

इमेज कॉपीरइट Preeti mann

मुग़लकाल में जहाज महल के नजदीक झरना नाम की जगह पर फूलवाली मंडी लगती थी. यहीं पर फूलों के पंखें बनते थे. पर अब न वो फूल वाले रहे न फूलों की मंडी, पर इस जगह का इतिहास अब भी जिन्दा है. कहा जाता है उस वक़्त महल की झील का पानी झरने के रूप में यहाँ आता था इस लिए इस जगह का नाम 'झरना' पड़ गया.

इमेज कॉपीरइट Preeti mann

फूलवालों की सैर का उत्सव सात दिन तक मनाया जाता है जिसमें कई तरह के सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किये जाते हैं. इस दौरान मेहरौली में मेला भी सजता है.

इमेज कॉपीरइट Preeti mann

1942 में भारत छोड़ो आंदोलन के दौरान अंग्रेजों ने फूट डालो राज़ करो की नीति के चलते फूलवालों की सैर पर रोक लगा दी. बाद में पंडित जवाहर लाल नेहरू ने 1962 में इसे फिर शुरू करवाया. आज भी हर साल देश के राष्ट्रपति द्वारा मंदिर और दरगाह पर पंखें भेंट किए जाते हैं.

इमेज कॉपीरइट Preeti mann

सैर के आख़िरी दिन अलग-अलग राज्यों से फूलों के पंखे भेंट करने के साथ जहाज महल में लोक नृत्य प्रस्तुति भी दी जाती है जिसके बाद क़व्वाली का कार्यक्रम शुरू होता है जो रात भर चलता है.

इमेज कॉपीरइट Preeti mann

कहते हैं मुमताज महल अपनी मन्नत पूरी करने के लिए नंगे पैर गई थीं तब शहर वालों ने सारे रास्ते को फूलों से सजा दिया था.

इमेज कॉपीरइट Preeti mann

फूलवालों की सैर हिन्दू-मुस्लिम प्रेम और भाईचारे की मिसाल है. जिसमें दोनों धर्म के लोग एक दूसरे के धर्म का सम्मान करते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए