बंजर ज़मीन को हरा-भरा बनाने का चमत्कार

  • वेंकटेश पेरुमल
  • बीबीसी हिंदी डॉट कॉम के लिए
इमेज कैप्शन,

सूखे प्रभावित इलाके में सिख किसानों ने किया कमाल

पंजाब के किसानों के एक समूह ने तमिलनाडु के सूखा प्रभावित ज़िला रामनाथपुरम में चमत्कार कर दिखाया है. यहां न तो बारिश होती है और न ही कोई नदी है. लेकिन पंजाब के इन किसानों ने इस इलाक़े को हरा-भरा कर दिया है.

इन्होंने आम, पपीता, अमरूद और नारियल के पेड़ लगाकर पूरे इलाक़े में हरित क्रांति ला दी है. इनकी मेहनत के नतीजों को देखकर स्थानीय लोगों में भी खेती के प्रति उम्मीद जगी है.

रामनाथपुरम से गुज़रते हुए इस इलाक़े में बंजर भूमि को आसानी से महसूस किया जा सकता है. आसपास केवल ताड़ के पेड़ दिखते हैं. यहां की ज़मीन पर झाड़ियां ख़ूब दिखती हैं. ये झाड़ियां सूखा प्रभावित भूमि पर उगती हैं. इनका इस्तेमाल केवल जलाने में ही किया जा सकता है.

यहां की ज्यादातर भूमि बंजर है. यहां के निवासियों को खेती से उम्मीद न के बराबर है क्योंकि सिंचाई के लिए बारिश के पानी के अलावा कोई विकल्प नहीं है. समस्या यह है कि यहां बारिश भी नहीं होती है.

इमेज कैप्शन,

बंजर इलाके में हरित क्रांति लाने वाले किसान

वल्लंडाई पहुंचने पर सिख किसान तत्काल खेती के बार में बताने लगते हैं. हालांकि यहां सिंगल सड़क है लेकिन ये आपको 'अकाल फार्म्स' तक पहुंचाने में मदद करेंगे. यहां पहुंचते ही आपकी आंखें चमक उठेंगी. यहां लाइन से आम और नारियल के पेड़ मिलेंगे.

रामनाथपुरम में इन सभी पेड़ों का होना किसी जादू से कम नहीं है. आज तक आम और नारियल की यहां पर खेती नहीं हुई. यह सब देखने के बाद बंजर में यह किसी चमत्कार की तरह लगता है. इस कृषिक्षेत्र के बाहर चारों तरफ बंजर भूमि दिखती है जबकि यहां की ज़मीन फलों के वृक्षों से ढकी है.

हम भले इसे चमत्कार कह लें लेकिन यह चमत्कार नहीं बल्कि 17 सिख परिवारों की कड़ी मेहनत का नतीजा है. इन्होंने तमिलनाडु के इस पिछड़े क्षेत्र में एक हरा-भरा पंजाब पैदा कर दिया है. मनमोहन सिंह और 46 के साल के दर्शन सिंह 2007 में तमिलनाडु के रामनाथपुरम ज़िला पहुंचे थे.

ये अपने गुरु के सलाह पर यहां पहुंचे थे. इनके गुरु हिमाचल प्रदेश में बाग़बानी के रिटायर्ड प्रोफ़ेसर हैं. इनके गुरु ने इन्हें सलाह दी थी कि वे बदलाव के लिए काम करें. उन्होंने कहा था कि वे मुश्किल हालात को आसान बनाकर मिसाल क़ायम करें.

इमेज कैप्शन,

इनकी मेहनत की चर्चा पूरे इलाके में

इन्हें गुरु ने कहा था कि गांव और पिछड़े इलाक़ों में बंजर भूमि को हरियाली में तब्दील करें. मनमोहन सिंह ने कहा कि उन्होंने गुरु की प्रेरणा पर ही सारा काम किया.

मनमोहन सिंह ने कहा, ''हमने सारा काम बाबा के मार्गदर्शन में किया है. यहां के स्थानीय किसानों से 20 हज़ार रुपये प्रति एकड़ की दर से ज़मीन ख़रीदी थी. यहां किसानों को अपनी ज़मीन पर भरोसा नहीं था."

वो कहते हैं, "हमने यहां ड्रिप इरिगेशन सिस्टम को अपनाया. यहां पर लोगों को इस सिस्टम के बारे में पता नहीं था. यहां के ज़्यादातर किसान मौसमी बारिश की बाट जोहते हैं. हालांकि हर बार इन्हें बारिश धोखा दे जाती है. यहां के ज़्यादातर किसान दिवालिया हो गए हैं. इन्होंने अपनी ज़मीन बेच दी और शहर की तरफ़ पलायन कर गए. शहर में ये अब नौकर का काम कर ख़ुश हैं."

इमेज कैप्शन,

प्रार्थन का साथ करते हैं दिन की शुरुआत

इन्होंने यहां पर 15 बोरवेल लगाए और ड्रिप इरिगेशन को अपनाया. इसमें पानी का बेहद उचित इस्तेमाल होता है. ये दिन की शुरुआत रात दो बजे अरदास के साथ करते हैं और शाम 6 बजे तक काम करते हैं. पिछले आठ सालों से इनकी कड़ी मेहनत मिसाल बन गई है. इसका परिणाम हर कोई अब देख सकता है.

मनमोहन सिंह और उनकी टीम को मदुरै की कृषि यूनिवर्सिटी से ड्रिप इरिगेशन सिस्टम अपनाने की सलाह मिली थी. इन्होंने खेती के लिए वैज्ञानिक तरीक़े को अपनाया और नारियल, आम, अमरूद की खेती से अपने कारवां को आगे बढ़ाया. शुरू में इन्होंने अच्छी गुणवत्ता वाले पौधों को विकसित किया ताकि यहां के जलवायु के मुताबिक़ फिट हो.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)