किसानों के लिए मुसीबत बनते पुराने नोट

  • आलोक प्रकाश पुतुल
  • रायपुर से बीबीसी हिंदी डॉटकॉम के लिये
रवि प्रधान

इमेज स्रोत, CG Khabar

इमेज कैप्शन,

आत्महत्या करने वाले 46 साल के रवि प्रधान

छत्तीसगढ़ के रायगढ़ में अपने पुराने नोट नहीं बदले जाने से परेशान एक किसान ने कथित रूप से फांसी लगा कर जान दे दी.

हालांकि पुलिस 46 साल के रवि प्रधान की आत्महत्या के मामले की जांच की बात कह रही है.

महाराजपुर गांव में रहने वाले रवि प्रधान की पत्नी पुष्पलता ने बताया, "वे पिछले तीन दिनों से पांच-पांच सौ के छह नोट लेकर बैंक जा रहे थे. लेकिन उनका नोट बदला नहीं जा रहा था. इससे वे परेशान थे. बाद में उन्होंने फांसी लगा ली."

परिजनों के अनुसार रवि प्रधान के दो बेटे अनिल और सुनील तमिलनाडु के एक सूत कारखाने में काम करते थे. वहां से वे किसी तरह लौटना चाह रहे थे. लेकिन उनका ठेकेदार पैसे लेकर भाग गया.

इसके बाद दोनों लड़कों ने अपने पिता से पैसों का इंतजाम करने के लिए कहा था.

गांव के सरपंच गोवर्धन सिदार का कहना है कि पुराने नोटों के कारण गांव के लोग परेशान हैं. बैंकों में अधिक भीड़ के कारण नोट बदलने का काम भी बहुत मुश्किल है.

इमेज स्रोत, CG Khabar

इमेज कैप्शन,

रवि प्रधान की पत्नी पुष्पलता

इधर पुलिस का कहना है कि मृतक के पास से कोई सुसाइड नोट बरामद नहीं हुआ है.

रायगढ़ के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक यूबीएस चौहान ने कहा है कि किसान ने किन परिस्थितियों में आत्महत्या की है, इस बारे में जांच के बाद ही ठीक-ठीक पता चल पायेगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)