मुश्किल है भारतीय अर्थव्यवस्था का कैशेलेस होना: येचुरी

  • 17 नवंबर 2016
इमेज कॉपीरइट Twitter
Image caption सीपीएम चीफ़ सीताराम येचुरी

विपक्ष ने इस तर्क को ख़ारिज कर दिया है कि करेंसी पर रोक से अर्थव्यवस्था कैश से कैशलेस की तरफ बढ़ेगी.

राज्यसभा में नोटों के रद्द किए जाने पर जारी बहस के दौरान सीपीएम जनरल सेक्रेटरी सीताराम येचुरी ने कुछ अहम आंकड़े पेश किए:

येचुरी ने कहा भारत में '2.6 करोड़ लोगों के पास ही क्रेडिट कार्ड हैं. जबकि रिटेल शॉप और आउटलेट्स पर सिर्फ़ 14 लाख कार्ड रीडर हैं।'

सीपीएम नेता ने कहा क्या हम इसी तरह की व्यवस्था से अर्थव्यवस्था को कैशलेस बना लेंगे.

उन्होंने कहा मुल्क की 80 प्रतिशत से ज्यादा लोग कैश इकोनॉमी पर निर्भर हैं. सरकार के फ़ैसले का ट्रक ड्राइवर, मज़दूर, किसान, मछुआरों जैसे तबकों पर बुरा प्रभावित पड़ रहा है.

मोदी पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा, '1789 में फ्रांस के राज लुई 16वें की दुल्हन मेरी आंतोने को जब कहा गया कि लोगों के पास रोटी नहीं तब उन्होंने कहा था कि वे केक क्यों नहीं खाते. उसी तरह मोदी कह रहे हैं कि आपके पास रुपया नहीं है तो प्लास्टिक मनी का इस्तेमाल क्यों नहीं करते.'

इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption नोटबंदी के विरोध में बैंगलोर में प्रदर्शन

हालांकि ऐसी रिपोर्ट भी आ रही है कि सरकार के इस फ़ैसले के बाद कार्ड स्वाइप मशीन की मांग बढ़ी है.

पेमेंट काउंसिल ऑफ इंडिया के चेयरमैन नवीन सूर्या ने हाल ही में बीबीसी हिन्दी से कहा था, ''इस मामले में अभी माक़ूल आंकड़ा देना मुश्किल है लेकिन जो ट्रेंड मिला है उससे पता चलता है कि प्री-पेड वॉलेट्स में 60 से 70 पर्सेंट का ग्रोथ है.''

उनका कहना था कि भारत में अब भी 90 फ़ीसदी लोग कैश का इस्तेमाल करते हैं जबकि महज़ 10 फ़ीसद ही डिजिटल अर्थव्यवस्था के साथ क़दम मिलाकर चल पा रहे हैं.

रिज़र्व बैंक ऑफ इंडिया की मार्च में आई रिपोर्ट में कहा गया है कि 88 प्रतिशत लोग डेबिट कार्ड का इस्तेमाल एटीएम से पैसे निकालने में करते हैं. मतलब एटीएम भी कैश निकालने में काम आ रहा है न कि कैशलेस प्रवृत्ति को बढ़ावा दे रही है.

सीताराम येचुरी का पूरा भाषण यहां क्लिक कर देखें

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे