नोटबंदी: सहकारी बैंक को लेकर केरल के मुख्यमंत्री और मंत्री धरने पर बैठे

  • इमरान क़ुरैशी
  • बीबीसी हिंदी डॉटकॉम के लिए
नोटबंदी:केरल के मुख्यमंत्री और मंत्री धरने पर बैठे

इमेज स्रोत, Sreekesh Raveendran Nair

मोदी सरकार के नोटबंदी के फ़ैसले के बाद रिर्ज़व बैंक ऑफ इंडिया ने सहकारी बैंकों में नोट बदली से इनकार कर दिया है.

बैंक के इस फ़ैसले के ख़िलाफ़ केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन अपने कैबिनेट सहयोगियों के साथ आरबीआई कार्यालय के सामने एक दिवसीय धरने पर बैठ गए.

विजयन ने केंद्र सरकार पर नोटबंदी की आड़ में राज्यों में सहकारी बैंकों को ''तबाह'' करने का आरोप लगाया और साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा. विजयन के इस धरने में माकपा के महासचिव सीताराम येचुरी भी शामिल हुए.

इमेज स्रोत, Sreekesh Raveendran Nair

यह विरोध प्रदर्शन बड़ी ही विचित्र परिस्थितियों में हुआ. पहले तीन दिन तक तो सहकारी बैंकों में नोटों की अदला-बदली हो रही थी, लेकिन इन बैंकों पर काले धन को सफ़ेद करने के आरोप लगने के बाद सरकार ने यह प्रतिबंध लगा दिए.

केरल का सहकारी बैंक सेक्टर राज्य की वित्तीय गतिविधियों की रीढ़ की हड्डी माने जाते है. राज्य में 1551 सहकारी बैंक हैं जिसमें लगभग 127000 करोड़ रुपये जमा हैं.

इमेज स्रोत, Sreekesh Raveendran Nair

प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए विजयन ने कहा, "काले धन और नोटबंदी के नाम पर केरल के सहकारी सेक्टर के अपमान पर केंद्र सरकार को दोबारा से विचार करना चाहिए. हम काले धन की रोकथाम के ख़िलाफ़ नहीं हैं."

भाजपा ने केरल सरकार के इस विरोध प्रदर्शन को "राजनीतिक" करार दिया है.

भाजपा का मानना है, "केरल की माकपा, सहकारी क्षेत्र के बैंक पर काबिज़ है. यही क्षेत्र इसकी आर्थिक शक्ति बना हुआ है. माकपा का सच इन बैंकों में काले धन के खु़लासे से सबके सामने न आ जाए इसीलिए वह डरी हुई है."

इमेज स्रोत, Sreekesh Raveendran Nair

छोड़कर पॉडकास्ट आगे बढ़ें
पॉडकास्ट
विवेचना

नई रिलीज़ हुई फ़िल्मों की समीक्षा करता साप्ताहिक कार्यक्रम

एपिसोड्स

समाप्त

माकपा महासचिव सीताराम येचुरी ने बीबीसी हिन्दी को बताया, "भाजपा की यह प्रतिक्रिया ही सिद्ध करती है कि केंद्र सरकार का यह कदम राजनीति से प्रेरित है. दुखद है कि भाजपा सरकार में हर निर्णय राजनीतिक और चुनावी हितों को ध्यान में रखकर लिया जा रहा है. ये लोग देश के जनवादी ढांचे को चुनाव के मक़सद के लिए बिगाड़ रहे हैं."

येचुरी ने बताया कि सहकारी क्षेत्र किसान समाज की रीढ़ है. सरकार के इस निर्णय का बुरा असर महाराष्ट्र, कर्नाटक और बंगाल पर भी पड़ेगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)