'इंदिरा ने निक्सन से कमज़ोर छात्र के अंदाज में बात की'

  • रेहान फ़ज़ल
  • बीबीसी संवाददाता
इंदिरा गांधी

इंदिरा गांधी को अपने शासनकाल में कई नामों से पुकारा गया. राम मनोहर लोहिया ने उन्हें 'गूंगी गुड़िया' कहा तो अटल बिहारी वाजपेयी ने उन्हें 'साक्षात दुर्गा' की संज्ञा दी.

याहिया ख़ाँ ने उन्हें अपमानजनक ढंग से 'वो औरत' कह कर पुकारा तो रिचर्ड निक्सन ने उन्हें 'बूढ़ी चुड़ैल' और 'बूढ़ी कुतिया' तक कहा. दक्षिण में उनके चाहने वाले उन्हें 'अम्मा' कहते रहे तो कुछ ने उन्हें सिर्फ़ 'वो' कह कर संबोधित किया.

साल 1968 में जब वो अमरीका गईं तो राष्ट्रपति लिंडन जॉनसन के सामने भी समस्या आई कि उन्हें किस नाम से पुकारा जाए.

जाने-माने पत्रकार इंदर मल्होत्रा ने याद करते हुए बीबीसी को बताया था कि अमरीका में तत्कालीन राजदूत बी के नेहरू ने उन्हें जानकारी दी थी कि जिस दिन इंदिरा को जॉनसन से मिलना था, उनके ख़ासमख़ास जैक वेलेंटी का ये जानने के लिए फ़ोन आया कि बैठक में जॉनसन को उन्हें किस तरह संबोधित करना चाहिए?

बी के नेहरू ने कहा था कि उन्हें नहीं पता कि वो किस तरह का संबोधन पसंद करेंगी, लेकिन वो उनसे पूछकर बता सकते हैं. जब बी के नेहरू ने इंदिरा के सामने ये सवाल रखा तो वो मुस्कराईं और बोलीं जॉनसन उन्हें प्राइम मिनिस्टर कह सकते हैं या नाम से भी पुकार सकते हैं.

जब नेहरू कमरे से बाहर निकलने लगे तो इंदिरा ने उन्हें रोक कर हंसते हुए कहा, "उन्हें बता दीजिए कि मेरे मंत्रिमंडल के कुछ सदस्य मुझे 'सर' कहकर भी पुकारते हैं."

जॉनसन, इंदिरा गांधी से इस क़दर प्रभावित हुए कि वो उनसे मिलने राजदूत बी के नेहरू के घर बिन बुलाए और बिना किसी पूर्व सूचना के सारे प्रोटोकॉल तोड़ते हुए जा पहुंचे.

हतप्रभ नेहरू ने उनसे पूछा, "राष्ट्रपति महोदय आप खाने के लिए तो रुकेंगे ना?" जॉनसन ने तपाक से जवाब दिया, "आप क्या समझते हैं मैं यहाँ किसलिए आया हूँ?"

आनन-फ़ानन में डाइनिंग टेबल पर बैठने की व्यवस्था बदली गई. मेज़ पर सिर्फ़ 18 कुर्सियाँ ही लगाई जा सकती थीं. सारे मेहमानों की कुर्सियाँ पहले से ही तय थीं. अतिरिक्त कुर्सी के लिए कोई जगह नहीं थी.

पी एन हक्सर ने पेशकश की कि वो दूसरे कमरे में खाएंगे, ताकि लिंडन जॉनसन, इंदिरा गांधी के बग़ल में बैठकर भोज का आनंद उठा सकें.

वहाँ पहले से मौजूद उप राष्ट्रपति ह्यूबर्ट हंफ़्री ने मज़ाक किया, "मुझे पहले से ही पता था मिस्टर प्रेसिडेंट कि आप मुझे इन सुंदर महिलाओं के बग़ल में नहीं बैठने देंगे."

अगले दिन व्हाइट हाउज़ के भोज के बाद जॉनसन ने इंदिरा गांधी से अपने साथ डांस करने का आग्रह किया. इंदिरा गांधी ने मुस्कराते हुए जवाब दिया, "मेरे देशवासी मेरा आपके साथ डांस करना पसंद नहीं करेंगे."

इंदिरा गांधी और रिचर्ड निक्सन में पहले दिन से ही नहीं बनी. जब साल 1967 में निक्सन उनसे दिल्ली में मिले, तो बीस मिनट में ही इंदिरा इतनी बोर हो गईं कि उन्होंने निक्सन के साथ आए भारतीय विदेश मंत्रालय के एक अधिकारी से हिंदी में पूछा, "मुझे इन्हें कब तक झेलना होगा?" दोनों के बीच ये ठंडापन साल 1971 तक बदस्तूर जारी था.

इमेज कैप्शन,

अमरीका के पूर्व राष्ट्रपति लिंडन जॉनसन

नवंबर, 1971 में जब इंदिरा गांधी पूर्वी पाकिस्तान में हो रहे अत्याचार के प्रति दुनिया का ध्यान खींचने अमरीका गईं तो व्हाइट हाउज़ में हुए स्वागत भाषण में निक्सन ने बिहार के बाढ़ पीड़ितों के प्रति तो अपनी सहानुभूति दिखाई, लेकिन पूर्वी पाकिस्तान का नाम तक नहीं लिया.

इंदिरा गांधी ने भी बिना लाग-लपेट के कहा कि राष्ट्रपति निक्सन एक मानव निर्मित त्रासदी को नज़रअंदाज़ कर रहे हैं. जैसे ही फ़ोटोग्राफ़र हटे, इंदिरा ने निक्सन की वियतनाम और चीन नीति पर बोल कर बातचीत की शुरुआत की.

बाद में विदेश मंत्री हेनरी किसिंजर ने अपनी किताब व्हाइट हाउज़ इयर्स में लिखा, "इंदिरा ने कुछ इस अंदाज़ में निक्सन से बात की, जैसे एक प्रोफ़ेसर पढ़ाई में कमज़ोर छात्र का मनोबल बढ़ाने के लिए उससे बात करता है."

किसिंजर आगे लिखते हैं कि निक्सन ने "भावहीन शिष्टता के ज़रिए किसी तरह अपने ग़ुस्से को पिया."

बाद में किसिंजर ने दोनों के बीच बातचीत को 'डायलॉग ऑफ़ द डेफ़' यानि बहरों की बातचीत की संज्ञा दी और कहा कि बातचीत के बाद निक्सन के इंदिरा गांधी के प्रति उद्गारों को सार्वजनिक रूप से नहीं बताया जा सकता.

अगले दिन तो इंतहा ही हो गई, जब निक्सन ने इंदिरा गांधी को मुलाक़ात ओवल हाउज़ के बग़ल के कमरे में 45 मिनट तक इंतज़ार कराया.

इंदिरा की जीवनीकार कैथरीन फ़्रैंक लिखती हैं, "इंदिरा अपमान का यह घूंट पी गईं, लेकिन उन्होंने निक्सन की अभद्रता का जवाब बारीक़ कौशल के साथ दिया."

पाकिस्तान पर बातचीत के लिए तैयार हो कर आए निक्सन से उन्होंने पाकिस्तान के बारे में एक शब्द भी नहीं कहा. उन्होंने उनसे अमरीकी विदेश नीति के बारे में तीखे सवाल पूछे.

इस बैठक मे मौजूद पी एन हक्सर ने कैथरीन फ़्रैंक को बताया कि उनकी नज़र लगातार निक्सन के चेहरे पर लगी हुई थी.

वो उनको एक 'मुखौटे की तरह' लग रहा था. उनके चेहरे पर कभी एक अस्वाभाविक मशीनी मुस्कान आती थी, तो कभी उनकी ज़रूरत से ज़्यादा घनी भौंहें चढ़ जाती थीं.

उनके अंदर भावनाओं की थोड़ी बहुत लौ तब दिखाई देती थी, जब दबाव के चलते उनके शरीर से बेइंतहा पसीना छूट निकलता था. ये बातचीत बुरी तरह असफल रही और 1971 के युद्ध में पाकिस्तान की हार ने उनके संबंधों में और कटुता ला दी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)