गुजरात के इस गांव में नोटबंदी का असर नहीं है.

अकोदारा नाम का यह गांव एक साल पहले ही कैशलेस बनने की दिशा में बढ़ चुका था. यहां सभी तरह के भुगतान मोबाइल और बैंक अकाउंट के मदद से किए जाते हैं.